दिल्ली दंगा: पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में फाइल की 10,000 से ज्‍यादा पन्नों की चार्जशीट, 15 लोगों के नाम

पुलिस (Police) ने दिल्ली दंगों के मामले में चार्जशीट (Charge sheet) फाइल कर दी है. 10,000 पन्नों की इस चार्जशीट में उमर खालिद और शरजील इमाम का नाम नहीं है.
riots in delhi, दिल्ली दंगा: पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में फाइल की 10,000 से ज्‍यादा पन्नों की चार्जशीट, 15 लोगों के नाम

दिल्ली में हुए दंगों के मामले में बुधवार पुलिस ने कोर्ट में चार्जशीट दायर की. पुलिस की चार्जशीट में 15 लोगों का नाम है. फरवरी 2020 में हुए दंगों 50 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी और बड़े पैमाने पर संपत्ति का नुसकान हुआ था.

दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने दिल्ली दंगा मामले में 15 आरोपियों के खिलाफ IPC के गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) और आर्म्स एक्ट के तहत 10,000 पन्नों की चार्जशीट फाइल की है. पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्जशीट फाइल की है.

पुलिस की ओर से फाइल की गई चार्जशीट में उमर खालिद और शरजील इमाम का नाम नहीं है. बता दें कि कुछ दिनों पहले उमर खालिद और शरजील को पुलिस ने गिरफ्तार किया था. पुलिस का कहना है कि उनकी जांच अभी चल रही है. आने वाले समय में वो अन्य आरोपियों के खिलाफ एक सप्लीमेंट्र चार्जशीट भी फाइल कर सकते हैं, जिनके नाम इस चार्जशीट में नहीं हैं.

पुलिस ने कोर्ट चार्जशीट दायर करते हुए कहा कि फरवरी में नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में हुए दंगों के ये आरोपी दंगाईयों के सीधे संपर्क में थे. पुलिस ने सलीमपुर और जाफराबाद में हुए दंगों में इस्तेमाल दो व्हाट्सएप ग्रुप्स का भी जिक्र किया.

ट्रंप के भारत दौरे के दौरान जली दिल्ली

बता दें कि CAA विरोध के रूप में शुरू हुए प्रदर्शन ने दिल्ली के कई हिस्सों में दंगों का रूप ले लिया. इस दौरान प्रधानमंत्री अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे पर उनके साथ दिल्ली में ही मौजूद थे. दोनों दंगों की जगह से बस कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर मौजूद थे.

दिल्ली में हुए दंगे इतने भीषण थे कि करीब 50 से अधिक लोग इसमें मारे गए, करीब 2000 लोग घायल हुए और सैंकड़ों लोगों के घरों को आग के हवाले कर दिया गया. दंगों में दिल्ली पुलिस की भूमिका पर भी सवाल उठे थे.

Related Posts