90 प्रतिशत मांगें माने जाने के बाद पुलिसकर्मियों ने खत्म किया धरना, 10 पॉइंट्स में जानें पूरा अपडेट

अपनी मांगों को लेकर अड़े पुलिसकर्मी कमिश्नर की अपील के बाद भी नहीं उठे. जानें इस मामले में अब तक क्या-क्या हुआ.

तीस हजारी हिंसा मामले के बाद मंगलवार को पुलिसकर्मी और उनके परिजन प्रदर्शन पर बैठ गए और उन्होंने दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर पर ही धरना शुरू कर दिया. अपनी मांगों को लेकर अड़े पुलिसकर्मी कमिश्नर की अपील के बाद भी नहीं उठे. हालांकि देर शाम जब उनकी 90 प्रतिशत मांगों को मान लिए जाने के बाद उन्होंने धरना खत्म कर दिया.

  • देर शाम धरने पर बैठे पुलिसकर्मियों की 90 प्रतिशत मांग माने जाने के बाद उन्होंने धरना खत्म कर दिया.
  • दिल्ली के विशेष पुलिस आयुक्त सतीश गोलचा ने कहा, “तीस हजारी हिंसा में घायल हुए सभी पुलिसकर्मियों को कम से कम 25,000 रुपये का मुआवजा दिया जाएगा. मैं आप सभी से अनुरोध करता हूं कि कृपया अपनी ड्यूटी पर वापस लौटें.”
  • दिल्ली डिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स कोऑर्डिनेशन कमेटी ने फैसला किया है कि दिल्ली के सभी डिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स में काम से परहेज कल भी जारी रहेगा. वादियों को अदालत के कमरे तक पहुंचने की अनुमति होगी.
  • दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने सभी पुलिसकर्मियों से ड्यूटी पर वापस लौटने की अपील की है. पुलिसकर्मियों से तीसरी बार ये अपील करते हुए कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने कहा कि उनकी सभी मांगों पर विचार जारी है.
  • दिल्ली पुलिस ज्वाइंट कमिश्नर राजेश खुराना ने दिल्ली आईटीओ में पुलिस मुख्यालय (PHQ) में विरोध प्रदर्शन कर रहे पुलिस कर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कि हम कानून लागू करने वाले हैं और हमें अपने काम को जारी रखना है.
  • ITO पर धरना दे रहे पुलिसकर्मियों को दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने भी संबोधित किया. उन्होंने कहा कि यह हमारे लिए परीक्षा की घड़ी है. साथ ही उन्होंने अपील की कि उस दिन जैसे हालात थे, उसके हिसाब से देखें तो काफी सुधर रहा है. इस स्थिति को हम परीक्षा की तरह मानें और हमें कानून संभालने की जो जिम्मेदारी दी गई है, उसे ध्यान में रखें.
  • इस मामले को लेकर राजनीतिक दलों ने भी एक दूसरे पर छींटाकसी भी की. कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए सवाल किया कि क्या यह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का ‘नया भारत (न्यू इंडिया)’ है. कांग्रेस ने इस तरह की घटना को देश की आजादी के 72 वर्षों में निचले स्तर पर बताया.
  • पुलिसकर्मियों पर हुई इन कार्रवाईयों से नाराज पुलिसकर्मी और उनके परिजन हड़ताल पर बैठ गए. उन्होंने पुलिस कमिश्नर के खिलाफ भी नारेबाजी की और किरण बेदी के प्ले कार्ड्स भी दिखाए.
  • दिल्ली हाई कोर्ट के आदेश पर विशेष आयुक्त (प्रभारी कानून एवं व्यवस्था) संजय सिंह को सोमवार को हटा दिया गया और विशेष आयुक्त आर. एस. कृष्णया को अतिरिक्त प्रभार दिया गया.
  • मालूम हो कि दिल्ली हाई कोर्ट ने रविवार को एक रिटायर्ड जस्टिस, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई), खुफिया ब्यूरो और सतर्कता एजेंसी के निदेशकों सहित एक टीम द्वारा हिंसा की न्यायिक जांच का आदेश दिया था.

ये भी पढ़ें: ज्वाइंट कमिश्नर ने दिल्ली पुलिस की सभी मांगें मानी, कहा- हम कानून के रखवाले, काम जारी रखना है