पराली से सिर्फ 4% हो रहा प्रदूषण, दिल्ली-NCR में तैनात होंगी CPCB की 50 टीमें: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय वन और पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने कहा है कि पंजाब में पराली जलाए जाने से मात्र चार फीसदी प्रदूषण बढ़ता है जबकि लोकल कारणों की वजह से दिल्ली में 96 फीसदी प्रदूषण बढ़ रहा है.

  • Manav Yadav
  • Publish Date - 3:03 pm, Thu, 15 October 20
Union Environment Minister Prakash Javadekar at UN Biodiversity Summit

केंद्रीय वन और पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में बढ़ रहे प्रदूषण (Pollution) पर चिंता जाहिर की है. उन्होंने कहा है कि पंजाब में पराली जलाए जाने से मात्र चार फीसदी प्रदूषण बढ़ता है जबकि लोकल कारणों की वजह से दिल्ली में 96 फीसदी प्रदूषण बढ़ रहा है. जावड़ेकर ने गुरुवार को नई दिल्ली में प्रदूषण के मुद्दे पर एक प्रेस कॉन्फ्रेन्स की और कई सारे अहम बिंदुओं पर अपनी बात रखी.

प्रकाश जावड़ेकर ने कही ये मुख्य बातें-

  • CPCB की 50 टीमें अब हर रोज फील्ड में रहेंगी.
  • दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति गंभीर रहती है.
  • ठंड में हवा की गति कम हो जाती तो प्रदूषण जम जाता है.
  • पराली का जलना भी अभी 20 दिन चलेगा.
  • हमने पराली के लिए पंजाब में अधिक मशीनें दी हैं.
  • पंजाब सरकार को ध्यान देना होगा.

  • दिल्ली के प्रदूषण में पराली का योगदान 4 % है यानी कि प्रदूषण के मुख्य कारण लोकल फैक्टर्स हैं.
  • दो महीने CPCB की 50 टीमें जगह-जगह जाकर मुआयना करेंगी.
  • सब देखेंगे कि कहीं बड़ा निर्माण तो नहीं चल रहा है और कहीं सॉलिड वेस्ट तो नहीं किया जा रहा है.
  • दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने पर कार्यवाही होगी.
  • मैं पंजाब सरकार से अपील करूंगा कि पराली को जलाने से रोकें.
  • कूड़े को जलाने से रोका जाएगा.
  • लोगों से अपील है कि गाड़ियों का इस्तेमाल कम करें.
  • लोग पब्लिक यातायात का प्रयोग करें.

‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’, दिल्ली में प्रदूषण रोकने के लिए सीएम केजरीवाल की नई मुहिम

सीएम केजरीवाल ने किया पलटवार

वहीं, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दोषपूर्ण राजनीति से किसी को फायदा नहीं होने वाला है. उन्होंने कहा कि पराली जलाने की घटना को अनदेखी करने से कुछ नहीं होगा. केजरीवाल ने सवाल किया कि अगर पराली जलाने से सिर्फ 4 प्रतिशत प्रदूषण होता है, तो आखिरी दिनों में प्रदूषण अचानक कैसे बढ़ गया? उससे पहले हवा साफ थी.

मनीष सिसोदिया भी हुए हमलावर

इससे पहले दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने पराली के कारण उत्तर भारत में बढ़ते प्रदूषण को लेकर चिंता जताई थी. उन्होंने कहा कि इस साल कोरोना संकट के कारण पराली का प्रदूषण काफी जानलेवा है. उन्होंने आरोप लगाया कि उत्तर भारत को प्रदूषण से बचाने में केंद्र सरकार पूरी तरह से नाकाम है.

प्रदूषण रोकने के लिए दिल्ली में कल से लागू होगा GRAP