JNU हिंसाः प्रकाश जावड़ेकर बोले- झूठ का पर्दाफाश, छात्रों को आगे रखकर राजनीति करना बंद करें

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि 'ये साफ हो गया कि किसने सर्वर रूम को तोड़ा. डी राजा और सीताराम येचुरी को देश से माफी मांगनी चाहिए.'
Prakash Javadekar politics, JNU हिंसाः प्रकाश जावड़ेकर बोले- झूठ का पर्दाफाश,  छात्रों को आगे रखकर राजनीति करना बंद करें

जेएनयू में हुई हिंसा पर दिल्ली पुलिस की जांच रिपोर्ट आने के बाद केंद्र सरकार ने राहत की सांस ली है. सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि जो लोग एबीवीपी पर एकतरफा हमला करने का आरोप लगाकर अपनी राजनीति कर रहे थे, उन्हें अब अपने गिरेबान में झांकना चाहिए.

जावड़ेकर ने कहा, “अब प्रकाश करात, सीताराम येचुरी और प्रियंका गांधी जैसे नेताओं को छात्रों को आगे कर राजनीति करना बंद कर देना चाहिए. उन्होंने कहा कि जनता ने जिन्हें चुनावों में नकार दिया, वो अब भी सीख नहीं ले रहे.”

उन्होंने कहा कि ‘ये साफ हो गया कि किसने सर्वर रूम को तोड़ा. डी राजा और सीताराम येचुरी को देश से माफी मांगनी चाहिए. अब सच देश के सामने आ गया है. सुप्रीम कोर्ट का आदेश है कि जो लोग तोड़फोड़ करेंगे उनसे भरपाई की जाएगी.’


जावड़ेकर ने कहा, “सरकार चाहती है कि छात्रों का एकेडमिक साल बर्बाद ना हो, लिहाजा उन्हें नार्मल माहौल बनाकर पढ़ाई पर ध्यान देना चाहिए. देश भर के छात्रों से अपील है कि वो पढ़ाई करें.”

केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने भी कहा कि दिल्ली पुलिस की प्रेस कान्फ्रेंस के बाद जेएनयू के लेफ्ट का नकाब हट गया है.


इरानी ने ट्टीट किया, ‘उन्होंने हाथापाई की, सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जो कि हमारे देश के टैक्सपेयर्स के टैक्स से बनती है. छात्रों को रजिस्ट्रेशन कराने से रोका और परिसर को राजनीति का अखाड़ा बना दिया. अब दिल्ली पुलिस ने सच सामने ला दिया है.’

बता दें कि दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को बताया कि हिंसा में शामिल 9 लोगों की पहचान की गई है. इसमें जेएनयूएसयू अध्यक्ष आइशी घोष भी शामिल थीं. उन्हें नोटिस भेजकर स्पष्टीकरण मांगा गया है.

ये भी पढ़ें-

JNU हिंसा पर दिल्ली पुलिस ने आइशी समेत बताए 9 नाम, घोष बोलीं- दिखाओ मेरे हाथ में रॉड थी

हैरान हूं… शहादत का जश्‍न मनाने वालों के साथ खड़ी हैं दीपिका, JNU जाने पर भड़कीं स्‍मृति ईरानी

क्या JNU छात्रसंघ अध्यक्ष रहते सीताराम येचुरी ने इंदिरा गांधी के सामने पढ़ा था माफीनामा, जानिए सच्चाई

Related Posts