प्रार्थनाएं जारी रखिए…Pranab Mukherjee के लिए बेटे अभिजीत ने की लोगों से गुजारिश

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) की हालत अभी गंभीर बनी हुई है. वह वेंटिलेटर सपॉर्ट पर हैं. उनके बेटे अभिजीत मुखर्जी ने ट्वीट पर प्रार्थना करने की अपील की है.
Pranab Mukherjee Health News, प्रार्थनाएं जारी रखिए…Pranab Mukherjee के लिए बेटे अभिजीत ने की लोगों से गुजारिश

देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) फिलहाल वेंटिलेटर सपॉर्ट पर हैं. इस बीच बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी के बाद प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee Health News) के बेटे अभिजीत मुखर्जी ने लोगों से उनके पिता के लिए प्रार्थना करने की अपील की है.

प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत मुखर्जी (Abhijit Mukherjee) ने ट्वीट में लिखा कि आप सभी की प्रार्थनाओं की वजह से फिलहाल पापा स्थिर (hemodynamically stable) हैं. आप सभी से निवेदन है कि उनके जल्द ठीक होने के अपनी पार्थना जारी रखें.

पापा के लिए जो अच्छा, भगवान वही करे: शर्मिष्ठा मुखर्जी

इससे पहले प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी (Sharmistha Mukherjee) ने पिता के लिए ट्वीट किया था. इसमें लिखा था कि, ‘पिछले साल 8 अगस्त का दिन मेरे लिए बहुत खुशी वाला दिन था, क्योंकि उस दिन पापा को भारत रत्न मिला था. अब एक साल बाद 10 अगस्त को वह बहुत बीमार हैं. जो उनके लिए ठीक है भगवान वही उनके साथ करे और मुझे खुशी और दुख दोनों को सहने ताकत दे. उन सभी को शुक्रिया जिन्होंने उनकी तबीयत की चिंता की.’

पढ़ें- Pranab Mukherjee के लिए क्या बोलीं शर्मिष्ठा मुखर्जी

ब्रेन सर्जरी के बाद वेंटिलेटर सपॉर्ट पर प्रणब मुखर्जी

पूर्व राष्ट्रपति की ब्रेन सर्जरी हुई है और वह कोरोनावायरस (Coronavirus) संक्रमित भी हैं. फिलहाल उनकी हालत गंभीर बताई जा रही है, वह मंगलवार से लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर हैं. 84 वर्षीय मुखर्जी ने सोमवार को अपने ब्रेन से रक्त का एक थक्का हटवाने के लिए सर्जरी कराई. वह इस समय दिल्ली के आर्मी हॉस्पिटल रिसर्च एंड रेफरल में वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं और उनकी हालत स्थिर है लेकिन गंभीर बताई जा रही है.

पैतृक गांव में महामत्युंजय मंत्र जाप

पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले (Birbhum, West Bengal) के ग्रामीण पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) के जल्द ठीक होने के लिए उनके पैतृक गांव में तीन दिनों धार्मिक कार्यक्रम कर रहे हैं. कहा जाता है कि यह मानसिक, भावनात्मक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है.

Related Posts