शारदा घोटाले की गुत्थी सुलझाने वाले IPS अधिकारी समेत CBI के 32 अफसरों को राष्ट्रपति पुलिस अवॉर्ड

सीबीआई के अनुसार, कोलकाता में तैनात 1992 बैच के IPS अधिकारी श्रीवास्तव को सारदा चिटफंड घोटाला पहेली को सुलझाने में उनके काम के लिए पुरस्कार मिला है. अप्रैल 2013 में 10,000 करोड़ रुपए का शारदा घोटाला सामने आया था.

नई दिल्ली: शारदा चिटफंड घोटाले की जांच में शामिल केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) के संयुक्त निदेशक सहित कुल 32 CBI अधिकारियों को स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में राष्ट्रपति पुलिस पदक और पुलिस पदक प्रदान किया गया. बुधवार को घोषित पुरस्कार विजेताओं की सूची में भारतीय पुलिस सेवा (IPS) के केवल दो अधिकारी ही शामिल हैं.

सीबीआई ने कहा कि सराहनीय सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक के तौर पर आठ अधिकारियों को चुना गया है, जबकि पुलिस पदक 24 अधिकारियों को दिए गए हैं. विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पदक विजेताओं में जबलपुर (मध्य प्रदेश) में तैनात कोलकाता के संयुक्त निदेशक पंकज कुमार श्रीवास्तव और जबलपुर में तैनात एसपी प्रशांत कुमार पांडे शामिल हैं.

सीबीआई के अनुसार, कोलकाता में तैनात 1992 बैच के IPS अधिकारी श्रीवास्तव को शारदा चिटफंड घोटाला पहेली को सुलझाने में उनके काम के लिए पुरस्कार मिला है. अप्रैल 2013 में 10,000 करोड़ रुपए का शारदा घोटाला सामने आया था.

जबलपुर में सीबीआई के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के साथ तैनात एसपी प्रशांत कुमार और दिल्ली में तैनात एएसपी रवि गंभीर को भी पुरस्कार मिला. दिल्ली में तैनात सीबीआई इंस्पेक्टर संजय कुमार, हैदराबाद में एंटी-करप्शन ब्रांच में तैनात बेलीउर सतीश प्रभु को भी विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पदक मिला. इसके अलावा विभिन्न स्थानों पर तैनात बड़े अफसरों से लेकर सहायक उप-निरीक्षक और हवलदारों को भी उनकी ड्यूटी के प्रति समर्पण के लिए सम्मानित किया गया है.

ये भी पढ़ें: घुसपैठ कर जम्मू-कश्मीर को दहलाना चाहते थे PAK आतंकी, भारतीय सेना ने ध्वस्त किए नापाक मंसूबे