जब संसद में पीएम मोदी ने दिया गुलाम नबी को न्‍योता, बोले- कुछ दिन तो गुज़ारो गुजरात में..

राज्यसभा में पीएम मोदी जबरदस्त फॉर्म में दिखे. विपक्षियों की बखिया तो खूब उधेड़ी ही, साथ में उन्होंने गुलाम नबी आज़ाद पर भी तंज़ कसे.

राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा हुई तो पीएम मोदी ने कांग्रेस पर जमकर हमले बोले. हर मुद्दे पर एक-एक करके प्रधानमंत्री ने विपक्षियों को घेरा. इसी दौरान जब प्रधानमंत्री सरदार पटेल की विशालकाय मूर्ति का ज़िक्र छिड़ा तो मोदी ने सामने बैठे राज्यसभा में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद पर तंज़ किया.

पीएम ने सरदार पटेल के लिए कहा कि वो कांग्रेस के ही बड़े नेता थे, लेकिन वो सिर्फ गुजरात में ही कांग्रेस के पोस्टर में दिखाई देते हैं, देश में नजर नहीं आते. उन्होंने कहा कि हमने सरदार साहब की सबसे बड़ी मूर्ति बनाई, मैं कहना चाहता हूं कि कांग्रेस के नेता वहां पर जाएं और श्रद्धासुमन चढ़ाकर आएं.

इसी दौरान उन्होंने गुलाम नबी आज़ाद से कहा, ‘गुलाम नबी जी..कुछ दिन तो गुजारिए गुजरात में..’ जब प्रधानमंत्री ने ऐसा कहा तो सदन में ठहाके लगने लगे.

दरअसल ‘कुछ दिन तो गुज़ारिए गुजरात में’ गुजरात पर्यटन अभियान की टैगलाइन के तौर पर मशहूर हो चुकी पंक्ति है. मौका लगते ही पीएम ने उसका इस्तेमाल कर डाला.

इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक शेर भी सुनाया. PM ने मिर्ज़ा ग़ालिब का जो शेर पढ़ा वो कुछ यूं था, ‘ताउम्र ग़ालिब ये भूल करता रहा, ताउम्र ग़ालिब ये भूल करता रहा,धूल चेहरे पर थी और मैं आइना साफ़ करता रहा’.

मोदी ने कहा कि जब सरदार सरोवर डैम ओवरफ्लो होता था, तो मध्य प्रदेश में दिग्विजय सिंह की सरकार थी. बांध के पास लोगों को जाने नहीं दिया जाता था, जब मैं इधर मुख्यमंत्री बना तो हमने लोगों को जाने दिया. बांध की फोटो निकालने दी, लोगों के लिए टिकट भी रख दिया. वहां पर जाने वाला पांच लाखवां टूरिस्ट जोड़ा बारामूला का था, जिसे हमने सम्मानित भी किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दौरान तंज कसते हुए कहा कि मैं तो कहता हूं कि कांग्रेस को सरदार पटेल की मूर्ति के पास अपनी वर्किंग कमेटी की बैठक करनी चाहिए. वो आपके ही नेता थे, हम तो लगातार अपनी तरफ से श्रद्धांजलि दे रहे हैं.

Related Posts