अमेठी में आज जन्मदिन मनाएंगी प्रियंका गांधी, रायबरेली में दिलाएंगी NRC-NPR-CAA पर ट्रेनिंग

आईएएनएस के मुताबिक प्रियंका गांधी नई टीम को पार्टी के गौरवशाली इतिहास से परिचित कराने के साथ दो-दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में एनआरसी, एनपीआर और सीएए जैसे मुद्दों पर विस्तार से पार्टी के रुख की जानकारी देंगी.

उत्तर प्रदेश में पार्टी संगठन को मजबूत करने और उसके विस्तार की कोशिश में जुटीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा 12 जनवरी को यानी आज अपना जन्मदिन अमेठी में मनाएंगी. इस मौके पर पर वरिष्ठ कांग्रेसियों को सम्मानित भी करेंगी.

आईएएनएस के मुताबिक नई टीम को प्रियंका गांधी पार्टी के गौरवशाली इतिहास से परिचित कराने के साथ दो-दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में एनआरसी, एनपीआर और सीएए जैसे मुद्दों पर विस्तार से पार्टी के रुख की जानकारी देंगी.

इसके बाद प्रियंका अपनी मां और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली में 16 से लेकर 19 जनवरी तक जिलाध्यक्षों और शहर अध्यक्षों के लिए प्रशिक्षण शिविर चलाने जा रही हैं. कांग्रेस के एक पदाधिकारी ने बताया कि प्रियंका ने पार्टी के वरिष्ठ नेता और प्रशासन प्रभारी सिद्धार्थ प्रिय को एक पत्र जारी किया है. इसमें उन्होंने रायरबेली के चार दिवसीय दौरे के दौरान 16 से 19 जनवरी तक कांग्रेस के जिला और शहर अध्यक्षों को दो-दो दिन प्रशिक्षण दिए जाने की जानकारी दी है.

रायबरेली में प्रियंका गांधी वाड्रा के इस दौरे को लेकर उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी बेहद सक्रिय है. अपने चार दिनी दौरे में प्रियंका दो दिन पूर्वी यूपी और दो दिन पश्चिमी यूपी के सभी शहर और जिला अध्यक्षों से मिलेंगी और उन्हें प्रशिक्षण दिलाएंगी. वह चारों दिन प्रशिक्षण कार्यक्रम में मौजूद रहेंगी. कार्यक्रम के लिए निर्धारित हरेक विषय को समझाने के लिए एक्सपर्ट भी बुलाए गए हैं.

पार्टी सूत्रों के मुताबिक, 16 और 17 जनवरी को पूर्वी यूपी और 18 और 19 को पश्चिमी यूपी के जिला अध्यक्षों को प्रशिक्षण दिया जाएगा. प्रियंका ने उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के जिला और शहर अध्यक्षों की नई टीम तैयार की है. इसके लिए उन्हें पुराने कांग्रेसियों से बैर भी मोल लेनी पड़ी है.

ये भी पढ़ें-

यूपी में घड़ियाली आंसू बहाने आती हैं प्रियंका, लेकिन कोटा में बच्चों की मांओं से मिलने नहीं गईं: मायावती

रामलला के दर्शन करेंगे राष्ट्रमंडल देशों के प्रतिनिधि, SC के फैसले के बाद अयोध्या आने वाला पहला अंतरराष्ट्रीय दल