Delhi: गणेश चतुर्थी पर सामूहिक मूर्ति विसर्जन और मुहर्रम जुलूस निकालने पर लगी रोक

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (Delhi Disaster Management Authority) ने राजधानी के सभी संबंधित अधिकारियों को केंद्र सरकार की गाइडलाइन का कड़ाई से अनुपालन कराने का निर्देश जारी किया है.

राजधानी दिल्ली (Delhi) में मोहर्रम (Moharram) के दौरान जूलूस निकालने और गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi) के दौरान सार्वजनिक मूर्ति स्थापना पर रोक लगा दी गई है. केंद्र सरकार की गाइडलाइन के तहत यह रोक लगाई गई है. केंद्र सरकार से जारी गाइडलाइन के तहत गणेश चतुर्थी के दौरान पंडाल बनाने पर भी प्रतिबंध रहेगा.

गाइडलाइन का कड़ाई से पालन कराने का निर्देश

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने राजधानी के सभी संबंधित अधिकारियों को केंद्र सरकार की गाइडलाइन का कड़ाई से अनुपालन कराने का निर्देश जारी किया है. दिल्ली में कोविड-19 महामारी के फैलने के खतरे के मद्देनजर सभी लोगों से पर्व को घर पर ही मनाने की अपील की गई है.

DPCC ने कहा कि आदेश का उल्लंघन करने पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भरना होगा. प्रदूषण नियंत्रण संस्था ने लोगों से कहा है कि वे घर में ही बाल्टी या किसी अन्य पात्र में विसर्जन की रीति पूरा करें.

DPCC के अधिकारी का बयान

इससे पहले दिल्ली सरकार ने इस साल गणेश चतुर्थी के अवसर पर सार्वजनिक स्थलों पर प्रतिमा विसर्जन, बड़ी संख्या में एकत्र होने और सामुदायिक स्तर पर पर्व मनाने पर रोक लगा दी थी.

दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (DPCC) के एक अधिकारी के अनुसार, सामुदायिक स्तर पर पर्व मनाने की अनुमति नहीं है क्योंकि महामारी को देखते हुए दिल्ली सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशों के अनुसार सामूहिक रूप से एकत्रित होने की मनाही है.

राष्ट्रीय हरित अधिकरण के 2015 के आदेश के अनुसार यमुना में मूर्ति विसर्जन पर पाबंदी लगी हुई है. पिछले साल दिल्ली सरकार ने सार्वजनिक स्थल पर मूर्ति विसर्जन के लिए कृत्रिम तालाब बनाए थे.

Related Posts