पंजाब की अवैध पटाखा फैक्ट्री में धमाका, 22 लोगों की मौत, 26 घायल

फैक्ट्री में धुंआ ज्यादा भर जाने की वजह से लोगों को बाहर निकालने में मुश्किल आ रही है.

पंजाब के गुरदासपुर जिले में घनी आबादी वाले रिहायशी इलाके बटाला में एक अवैध पटाखा फैक्ट्री में बुधवार को हुए विस्फोट में 22 लोगों की मौत हो गई और 26 अन्य घायल हो गए. इसके अलावा दो लोग अभी भी लापता हैं. एक अधिकारी ने बताया कि मृतकों में पटाखा फैक्ट्री का मालिक और उसका बेटा भी शामिल है. विस्फोट इतना तेज था कि आवाज पूरे बटाला शहर में सुनाई दी. विस्फोट में आसपास मौजूद एक कार और एक ट्रैक्टर गैराज भी उड़ गया.

स्थानीय प्रशासन समेत पुलिस के जवान घटनास्थल पर पहुंचे हैं. घायलों को अस्पताल ले जाया जा रहा है. इसके साथ ही हेल्पलाइन नंबर 01871240144 भी जारी किया गया है. सरकार की ओर से हादसे में मरने वालों को 2 लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये दिए जाएंगे.

दोपहर लगभग तीन बजे हुए हादसे में कम से कम 22 लोगों की मौत हो गई है. कथित तौर पर विस्फोट के समय फैक्टरी में 25-30 श्रमिक काम कर रहे थे.

इस धमाके से फैक्ट्री आस पास के लोग भी प्रभावित हुए हैं. धमाके की वजह से घटनास्थल से 500 मीटर दूर स्थित मॉल के तीन फ्लोर के शीशे टूट गए. साथ ही एक शोरूम को भी नुकसान पहुंचा है. वहीं फैक्ट्री के बाहर खड़ी एक कार उछल कर नाले में जा गिर गई.
बटाला निवासी सरदार बलराज सिंह बाबा ने बताया, “जिस फैक्टरी में विस्फोट हुआ, वह बटाला शहर के बीचो-बीच स्थित है. हसली के पुल के पास जालंधर रोड पर स्थित फैक्टरी में जब विस्फोट हुआ, उस वक्त वहां काफी संख्या में श्रमिक काम कर रहे थे.”

आस-पास के लोगों के मुताबिक, “पटाखा फैक्टरी में विस्फोट इतना भयानक था कि उसकी आवाज पूरे शहर में सुनाई दी. विस्फोट में आसपास मौजूद मकानों को भी नुकसान पहुंचा है.” घटनास्थल पर राहत और बचाव कार्य जारी है.

घटनास्थल पर मौजूद एक अन्य प्रत्यक्षदर्शी गुरमीत सिंह ने बताया, “पटाखा फैक्टरी करीब दो वीघा जमीन पर बनी हुई थी. विस्फोट से फैक्टरी की पक्की इमारत जमींदोज हो गई.”

गुरमीत के मुताबिक, “मैंने पुलिस और फायर कर्मियों को मौके से 12 शव एंबुलेंस में ले जाते हुए देखा है. अंदर अभी कितने शव मौजूद हैं, इसका पता नहीं चल पा रहा है. पुलिस ने चारों ओर से घटनास्थल को सील कर दिया है.”

gurdaspur, पंजाब की अवैध पटाखा फैक्ट्री में धमाका, 22 लोगों की मौत, 26 घायल

बटाला शहर के निवासी डॉ. रमनजीत सिंह नागी ने बताया, “मैं घर में बैठा हुआ था. अचानक विस्फोट की बहुत तेज आवाज सुनाई दी. चंद मिनट में शहर के लोगों को मैंने जालंधर रोड स्थित नाले के पास मौजूद पटाखा फैक्टरी की ओर भागते देखा. थोड़ी देर बाद पता चला कि विस्फोट पटाखा फैक्टरी में हुआ है.”

घटनास्थल पर मौजूद भीड़ में इस बात को लेकर आक्रोश था कि कई बार इस पटाखा फैक्टरी को शहर के बाहर भिजवाने के लिए कहे जाने के बाद भी बटाला-गुरदासपुर प्रशासन और पुलिस ने इस बारे में कुछ नहीं किया.

सूत्रों के मुताबिक, इस पटाखा फैक्टरी को कुछ दिन पहले ही एक नोटिस भेजा गया था. लेकिन नोटिस किसने और क्यों भेजा, फिलहाल पता नहीं चल पाया है.

राष्ट्रपति कोविन्द ने ट्वीट कर लिखा है, ‘पंजाब के बटाला में पटाखों की फ़ैक्टरी में हुए विस्फोट से पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी शोक संवेदनाएं.’

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने इस घटना पर दुख जताया है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘गुरुदासपुर में पटाखा फैक्ट्री में. हताहत नागरिकों के शोक-संतप्त परिजनों के प्रति हार्दिक संवेदना व्यक्त करता हूं.’

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी इस हादसे पर दुख जताया है.

गुरदासपुर के सांसद सनी देओल ने भी इस विस्फोट पर दुख व्यक्त किया.

ये भी पढ़ें- ईस्टर्न इकॉनोमिक फोरम में बुलाना सम्मान की बात, रूसी राष्ट्रपति पुतिन से बोले पीएम मोदी