किसानों और अकाली दल का भ्रम जल्द टूटेगा, पंजाब में कृषि बिल पर बोले बीजेपी नेता

बीजेपी नेता विनीत जोशी (Vineet Joshi) ने कहा कि उन्हें उम्मीद है जब किसानों (Farmers) का भ्रम टूटेगा तो अकाली दल को भी अपनी गलती का एहसास होगा और उनका भी भ्रम टूटेगा.

  • TV9 Digital
  • Publish Date - 1:28 pm, Sun, 27 September 20

पंजाब में कृषि बिल (Agriculture Bill) को लेकर बीजेपी और अकाली दल के नेताओं में खींचतान का सिलसिला जारी है. ऐसी स्थिति में अकाली दल के एनडीए से अलग होने के ऐलान को लेकर पंजाब बीजेपी के नेता अभी सधी हुई प्रतिक्रिया दे रहे हैं और अकाली दल को निशाने पर नहीं ले रहे है. पंजाब बीजेपी के नेता विनीत जोशी (Vinit Joshi) ने कहा कि केंद्रीय कृषि अध्यादेशों के मुद्दे पर पंजाब में कांग्रेस (Congress) और राज्य सरकार किसानों के बीच में भ्रम फैलाने में कामयाब रही है. जिसके बाद किसान, व्यापारी और अन्य कई संगठन किसानों के समर्थन में सड़कों पर उतर आए हैं. लेकिन ये सभी लोग अभी भ्रम में हैं.

उन्होने कहा कि जल्द ही देश की मंडियों में धान की फसल की खरीद शुरू होगी जिससे किसानों को पता लगेगा कि एमएसपी (MSP) खत्म नहीं हो रही और उनकी तमाम फसल सरकारी एजेंसियों द्वारा एमएसपी पर ही खरीदी जा रही है और उसके बाद किसान ये समझेंगे कि केंद्र सरकार किसानों की दुश्मन नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi)  किसानों के मसीहा हैं.

ये भी पढ़ें- 1 अक्टूबर से पश्चिम बंगाल में फिर खुलेंगे सिनेमा हॉल, सीएम ममता ने दी जानकारी

‘किसानों और अकाली दल के नेताओं का भ्रम टूटेगा’

जोशी ने कहा कि उन्हें उम्मीद है जब किसानों (Farmers) का भ्रम टूटेगा तो अकाली दल (Akali Dal) को भी अपनी गलती का एहसास होगा और उनका भी भ्रम टूटेगा. अकाली दल के वापिस आने पर जोशी ने कहा कि इस पर तो वो कुछ नहीं कह सकते, लेकिन उन्हें उम्मीद है कि अकाली दल (Akali Dal) जल्द ही इस भ्रम से बाहर आएगा कि केंद्रीय कृषि अध्यादेशों की वजह से किसानों का नुकसान है.

 बीजेपी का पंजाब में बढ़ा है जनाधार

विनीत जोशी ने कहा कि कई ऐसे राज्य जहां पर बीजेपी को कुछ नहीं समझा जाता था वहां पर भी बीजेपी ने अच्छा प्रदर्शन किया और अपनी सरकारें भी बनाई हैं. पंजाब में भी बीजेपी मानती है कि उनका जनाधार बढ़ा है और 2022 पंजाब विधानसभा चुनाव में बीजेपी अपने दम पर चुनाव लड़ सकती है, लेकिन इस पर कोई भी फैसला आने वाले वक्त में ही परिस्थितियों के हिसाब से लिया जाएगा.