Punjab minister Navjot Singh Siddhu stands by his statement over Pulwama terror attack, पुलवामा अटैक: अपने बयान पर अडिग हैं सिद्धू, नहीं ले रहे सुधरने का नाम!
Punjab minister Navjot Singh Siddhu stands by his statement over Pulwama terror attack, पुलवामा अटैक: अपने बयान पर अडिग हैं सिद्धू, नहीं ले रहे सुधरने का नाम!

पुलवामा अटैक: अपने बयान पर अडिग हैं सिद्धू, नहीं ले रहे सुधरने का नाम!

Punjab minister Navjot Singh Siddhu stands by his statement over Pulwama terror attack, पुलवामा अटैक: अपने बयान पर अडिग हैं सिद्धू, नहीं ले रहे सुधरने का नाम!

नई दिल्ली. पुलवामा आतंकी हमले पर बयान देकर निशाने पर आने वाले पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू अपने बयान पर कायम हैं. उन्होंने एक बार फिर हमले को अंजाम देने वालों की निंदा तो की लेकिन पाकिस्तान का कोई जिक्र नहीं किया. साथ ही उन्होंने अटल विहारी वाजपेई सरकार पर इल्जाम लगाते हुए पूछा कि इस हमले की जिम्मेदारी लेने वालो की 1999 में किसने बेड़ियां खोली थीं.  पुलवामा हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थित संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है.

सिद्धू ने पूछा- कंधार में बेड़ियां किसने खोली

संवादाताओं से बात करते हुए सिद्धू ने कहा कि “घिनौने मंसूबों को कुचलना ज्यादा जरूरी है. क्या आज कोई चाहता है कि आतंकवाद के सामने घुटने टेक दिए जाएं. आतंकवाद इस देश के टुकड़े-टुकड़े कर दे. देश का विकास रुक जाए. देश का अमन-चैन छिन जाए. यही आतंकवादी चाहता है. जिन्होंने ये घिनौना अपराध किया था उसे घसीट के लाना चाहिए और ऐसी घिनौनी सजा देनी चाहिए जिसे पीढियां याद करें. जिन्होंने इस चीज की जिम्मेदारी ली. जो मानते हैं उन्होंने ये किया. 1999 में कंधार में उनकी बेड़ियां किसने खोली. उन्हें किसने रिहा किया था ये मैं पूछना चाहता हूं. ये जिनकी जिम्मेदारी है उन्ही के खिलाफ हमारी लड़ाई भी है. क्यों जवान मरे. आतंकवाद के खिलाफ हम सबकी जंग है. आतंकवाद का स्थायी समाधान होना चाहिए. पर किसी की जंग महिला, बच्चे, बुजुर्ग या किसी महिला के पेट में पलते बच्चे से नहीं हो सकती.”

कैसे भारत के चंगुल से रिहा हुआ था मसूद अज़हर

1999 में इंडियन एयरलाइंस की फ्लाइट IC 814 का अपहरण कर जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अज़हर की रिहाई करवाई गयी थी. काठमांडू से उड़ा ये जहाज दिल्ली पहुंचनेवाला था, लेकिन सफर के बीच में हरकत-उल-मुजाहिद्दीन के आतंकियों ने उस पर कब्ज़ा जमा लिया. अमृतसर, लाहौर और दुबई से होते हुए आखिरकार हवाई जहाज अफगानिस्तान के कंधार में उतरा जहां आतंकियों के पुराने साथी तालिबान की हुकूमत थी. सात दिनों तक बंधक कांड चलता रहा. अपहरणकर्ताओं ने मौलाना मसूद अज़हर, मुश्ताक अहमद ज़रगर और ओमर शेख की रिहाई मांगी. आखिरकार अटल विहारी वाजपेयी सरकार झुकी और तत्कालीन विदेशमंत्री जसवंत सिंह और इंटेलीजेंस ब्यूरो चीफ अजीत डोभाल तीनों आतंकियों को लेकर कंधार पहुंचे. इस फ्लाइट में 180 लोगों को बंधक बनाया गया था.

सिद्धू ने पहले दिया था ये बयान

सिद्धू ने घटना को लेकर पाकिस्तान से बातचीत करने की सलाह देते हुए कहा था कि “आतंकियों का कोई देश या धर्म नहीं होता है. गालियां देने से इसका समाधान नहीं होगा, आतंकवाद का हल ढूढंना ही होगा. लोहा लोहे को काटता है, आग आग को काटती है.” उन्होंने कहा था कि जहां-जहां जंगें होती है वहां डायलॉग भी साथ-साथ चलता है. आतंकवाद का स्थायी समाधान खोजा जाना चाहिए.
सिद्धू ने इस आतंकी हमले की निंदा की थी. उन्होंने कहा था कि हमले के दोषियों को सजा तो मिलनी चाहिए लेकिन साथ ही साथ बातचीत, अतंरराष्ट्रीय समुदाय के दबाव का इस्तेमाल कर इसका समाधान भी निकाला जाना चाहिए. सिद्धू ने कहा था, “गालियां देने से ये ठीक नहीं होगा… कब तक हमारे जवान शहीद होते रहेंगे. कब तक ये खून खराबा चलता रहेगा.”

पुलवामा आतंकी हमला

गुरुवार को पुलवामा में एक फिदायीन हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. एक आतंकवादी ने विस्फोटकों से भरी कार से CRPF जवानों को ले जा रही बस को टक्कर मार दी थी. साल 2016 में उरी में हुए हमले के बाद यह सबसे बड़ा आतंकवादी हमला है. इस हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थित संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है.

Punjab minister Navjot Singh Siddhu stands by his statement over Pulwama terror attack, पुलवामा अटैक: अपने बयान पर अडिग हैं सिद्धू, नहीं ले रहे सुधरने का नाम!
Punjab minister Navjot Singh Siddhu stands by his statement over Pulwama terror attack, पुलवामा अटैक: अपने बयान पर अडिग हैं सिद्धू, नहीं ले रहे सुधरने का नाम!

Related Posts

Punjab minister Navjot Singh Siddhu stands by his statement over Pulwama terror attack, पुलवामा अटैक: अपने बयान पर अडिग हैं सिद्धू, नहीं ले रहे सुधरने का नाम!
Punjab minister Navjot Singh Siddhu stands by his statement over Pulwama terror attack, पुलवामा अटैक: अपने बयान पर अडिग हैं सिद्धू, नहीं ले रहे सुधरने का नाम!