रेलवे के बेस किचन से पैक होने वाले खाने में लगेगा QR कोड, मिलेंगी ये जरूरी जानकारियां

बेस किचन से पैक होने वाले खाने में क्यूआर कोड लगाने की योजना है. इस क्यूआर कोड के जरिए यात्रियों को खाने से जुड़ी कई सारी जानकारियां मिल जाएंगी.

नई दिल्ली: रेलवे के खाने को लेकर शिकायतें लगातार आती रहती हैं. इन शिकायतों को दूर करने के लिए रेलवे एक नई पहल शुरू करने जा रहा है. रेलमंत्री पीयूष गोयल ने शनिवार को पश्चिम और मध्य रेलवे के साथ रिव्यू मीटिंग की. इस मीटिंग में कैटरिंग से जुड़े तमाम मुद्दों पर चर्चा हुई और शिकायतों को जल्द निपटाने पर जोर दिया गया.

बेस किचन से मिलेगी लाइव फीड
आईआरसीटीसी द्वारा संचालित बेस किचन में कई प्रीमियम ट्रेनों का खाना बनता है. पीयूष गोयल ने इन बेस किचन से लाइव फीड देने का इंतजाम जल्द करने का आदेश दिया है. लाइव फीड के जरिए यात्री यह जान सकेंगे कि उनका खाना कैसे बना है, कितनी हाइजीन रखी गई है.

पैक होने वाले खाने में लगेगा क्यूआर कोड
बेस किचन से पैक होने वाले खाने में क्यूआर कोड लगाने की योजना है. इस क्यूआर कोड के जरिए यात्रियों को खाने से जुड़ी कई सारी जानकारियां मिल जाएंगी. जैसे कि खाना कौन से बेस किचन में बना, कितने बजे पैक किया गया है. यात्री खाने का वास्तविक दाम भी क्यूआर कोड के जरिए जान पाएंगे. इससे भुगतान प्रक्रिया पारदर्शी होगी.

लागू होगा ‘नो-बिल, नो-पेमेंट’
रेलमंत्री की रेलवे अधिकारियों के साथ मीटिंग में ‘नो-बिल, नो-पेमेंट’ पर भी चर्चा हुई. यह योजना मुंबई में शुरू की गई थी. अब इसे ट्रेनों में भी लागू किया जाएगा. पीयूष गोयल ने मीटिंग में कहा कि नो-बिल, नो-पेमेंट के निर्देश मेटल शीट पर प्रिंट करके ट्रेनों में जल्द से जल्द लगाए जाएं. इन शीट पर टी.सी. द्वारा रसीद नहीं दिए जाने पर की जाने वाली कार्रवाई का भी ब्योरा दिया होगा.

ये भी पढ़ें-

“अब हमारी सत्ता है, ऐसा नहीं होगा”, मेरठ से हिंदुओं के पलायन पर बोले योगी आदित्यनाथ

3000 करोड़ में बने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की गैलरी में भरा पानी, पर्यटकों ने शेयर की Video

ममता बनर्जी के लिए चुनावी रणनीति बना रहे JDU के प्रशांत किशोर, BJP असहज!