इन मिसाइल्स के जुड़ जाने पर और घातक हो गया राफेल, दूर से ही मचा देगा दुश्मन खेमे में तबाही

एमबीडीए के इंडिया प्रमुख लुइक पीडेवाशे के मुताबिक राफेल विमान के जरिए भारत को अब वो क्षमताएं मिलने जा रही हैं जो अब तक उसके पास नहीं थीं. मिटिऑर और स्काल्प भारतीय वायुसेना के लिए गेम चेंजर साबित होगी.
राफेल, इन मिसाइल्स के जुड़ जाने पर और घातक हो गया राफेल, दूर से ही मचा देगा दुश्मन खेमे में तबाही

जल्द ही राफेल विमान भारतीय वायु सेना के बेड़े में शामिल हो जाएगा और इसी के साथ भारतीय वायु सेना दुश्मन की हर हरकत से पहले ही उसको सबक सिखाने में सक्षम हो जाएगी. दरअसल राफेल मिटिऑर और स्काल्प मिसाइलों से तैनात हैं जो कि लंबी दूरी तक दुश्मन के ठिकाने को तहस-नहस करने का दम रखती हैं.

यूरोप की मिसाइल कंपनी एमबीडीए का कहना है कि इन दोनों मिसाइल्स के चलते राफेल और भी ज्यादा घातक हो गया है. उनका कहना है कि इसके बूते भारतीय वायू सेना मजबूत हवाई ताकत के तौर पर उभरेगी. उनका कहना है कि 59,000 करोड़ रुपए की लागत से भारत में 36 राफेल आने हैं और इनमें लगी मिटिऑर और स्काल्प मिसाइल्स हवा से हवा में मार करने की अद्भुत क्षमता भी भारत को मिलेगी.

एमबीडीए के इंडिया प्रमुख लुइक पीडेवाशे के मुताबिक राफेल विमान के जरिए भारत को अब वो क्षमताएं मिलने जा रही हैं जो अब तक उसके पास नहीं थीं. मिटिऑर और स्काल्प भारतीय वायुसेना के लिए गेम चेंजर साबित होगी.

मिटिऑर मिसाइल को विजुअल रेंज मिसाइल के तौर पर दुनिया की सबसे मारक माना जाता है. वहीं स्काल्प दुश्मन के खेमे में काफी अंदर तक घुस कर मार करने में सक्षम है. अभी तक भारत के पास ऐसी क्षमता की कमी थी, जो जल्द ही राफेल के आने के बाद दूर हो जाएगी.

लुइक के मुताबिक मिटिऑर किसी भी हवाई हमले को रोकने में सक्षम है. यह एक नेक्सट जनरेशन मिसाइल है जिसे एमबीडीए ने ब्रिटेन, जर्मनी, इटली, फ्रांस, स्पेन और स्वीडन की मांग को ध्यान में रखकर बनाया गया है. यह कैसे भी खराब मौसम में लक्ष्य को ध्वस्त करने की ताकत भी रखती है.

ये भी पढ़ें: श्रीनगर में महबूबा मुफ्ती से मिलेगा PDP का 10 सदस्यीय दल, 5 अगस्त से हाउस अरेस्ट हैं PDP प्रमुख

Related Posts