VIDEO: राहुल गांधी ने दिया इस्‍तीफा, इमोशनल लेटर ट्वीट कर दिए संकेत, ‘बड़े-बड़ों पर गिरेगी गाज’

‘मैं बीजेपी की विचारधारा का विरोध करता रहूंगा लेकिन मेरे अंदर बीजेपी के गुस्सा और नफरत नहीं है.’

नई दिल्ली: राहुल गांधी ने इस्तीफा देकर ये बात साफ कर दी है कि पार्टी के जो सदस्य चुनाव में हार की वजह हैं उन्हें पार्टी से अलग किया जाएगा. इस बदलाव की शुरुआत राहुल ने अपने इस्तीफे से की है. राहुल गांधी का इस्तीफा ये बतलाता है कि कांग्रेस के दूसरे नेताओं को भी पार्टी से दरकिनार किया जा सकता है.

राहुल गांधी ने इस्तीफा देते हुए स्वीकार किया है कि 2019 के चुनाव में हार के लिए वो खुद जिम्मेदार हैं और अब पार्टी में बदलाव की जरूरत है. उन्होंने कहा कि, ‘पार्टी में हार की जिम्मेदारी तय होनी चाहिए और सुधार के लिए बड़े फैसले की जरूरत है. हार के लिए कई लोग जिम्मेदार हैं.’

हाल ही में राहुल गांधी ने ट्वीट कर इस्तीफे की पुष्टि की है. इस ट्वीट में उन्होंने लेटर भी अटैच किया है.


‘कांग्रेस की सेवा करना मेरे लिए गर्व की बात है. देश में संस्थाएं खत्म हो गई हैं. चुनाव महज रस्म-अदायगी होंगे. मैं अब CWC की बैठक नहीं बुलाऊंगा.’

हालांकि राहुल गांधी ने कहा, ‘मैं बीजेपी की विचारधारा का विरोध करता रहूंगा. बीजेपी तोड़ती है, हम जोड़ते हैं. मेरे अंदर बीजेपी के गुस्सा और नफरत नहीं है.’

यही नहीं राहुल गांधी ने ट्विटर पर अपना प्रोफाइल भी बदल लिया है. उन्होंने अपने बायो में कांग्रेस अध्यक्ष की जगह कांग्रेस सदस्य लिख दिया है.

संसद में पत्रकारों के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा, “पार्टी को बिना किसी देरी के नए अध्यक्ष को लेकर फैसला करना चाहिए. मैं इस प्रक्रिया में कहीं नहीं हूं. मैंने पहले ही अपना इस्तीफा दे दिया है और पार्टी अध्यक्ष नहीं हूं. CWC जल्दी बैठक करे और तय करे.”

कांग्रेस के पांचों मुख्यमंत्रियों ने सोमवार को राहुल गांधी से मुलाकात कर उन्हें कांग्रेस प्रमुख पद पर बने रहने का आग्रह किया था. हालांकि, राहुल गांधी ने मुख्यमंत्रियों की मांगों को खारिज कर दिया है और उन्हें नए पार्टी अध्यक्ष की तलाश करने को कहा है.