Covid19 मसले पर एक्सपर्ट से राहुल गांधी ने कहा- 9/11 नया चैप्टर था और Coronavirus पूरी किताब

कोविड-19 संकट से निपटने के लिए अर्थशास्त्र, सामाजिक विज्ञान, स्वास्थ्य और अन्य क्षेत्रों के विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त विशेषज्ञों के साथ कांग्रेस नेता राहुल द्वारा किए गए संवादों की श्रृंखला में यह तीसरी बातचीत है.
Rahut Gandhi talks with health professionals amid Coronavirus crisis, Covid19 मसले पर एक्सपर्ट से राहुल गांधी ने कहा- 9/11 नया चैप्टर था और Coronavirus पूरी किताब

कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) कोरोनावायरस संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के बीच स्वास्थ्य पेशेवरों के साथ बातचीत की. राहुल गांधी वैश्विक स्तर पर मान्यता प्राप्त पब्लिक हेल्थ प्रोफेशनल आशीष झा और प्रसिद्ध स्वीडिश एपिडेमियोलॉजिस्ट जोहान गिसेके के साथ बातचीत की.

हेल्थ प्रोफेशनल्स से बातचीत में राहुल गांधी ने कहा कि कोरोनावायरस संकट दुनिया में मौजूदा ढांचे और व्यवस्था को बदल कर रख देगा. वैश्विक स्तर पर, वायरस दो स्तरों पर काम कर रहा है. पहला स्वास्थ्य सेवाओं के स्तर पर और दूसरा वैश्विक ढांचे पर हमला करके. इससे आर्थिक और स्वास्थ्य दोनों स्तरों पर दिक्कत हो रही है. राहुल ने कहा कि मुझे भरोसा है कि इस जंग के बाद हम नई दुनिया देखेंगे. राहुल गांधी ने ये भी कहा कि लोग कहते हैं कि 9/11 एक चैप्टर था, लेकिन ये एक नई किताब है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

राहुल गांधी ने  प्रोफेसर आशीष झा से पूछा कि लॉकडाउन को लेकर आपका क्या विचार है? इससे मनोविज्ञान पर क्या असर पड़ता है और ये कितना मुश्किल है.

जवाब में प्रोफेसर झा ने कहा कि लॉकडाउन से आप वायरस (Virus) के फैलने की स्पीड को कम कर सकते हैं. अगर वायरस को रोकना है तो पीड़िता को समाज से अलग करना जरूरी है, उसकी टेस्टिंग करना जरूरी है. लॉकडाउन आपको अपनी क्षमता बढ़ाने का वक्त देता है.

मजदूरों की मदद करना जरूरी

राहुल गांधी ने ये भी पूछा कि लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से मजदूरों पर काफी असर पड़ रहा है, क्योंकि मजदूरों को पता नहीं है कि ये कब ठीक होगा और कब काम मिलेगा. इसके जवाब मे झा ने कहा कि वायरस 2021 तक रहने वाला है. रोजाना कमाने वालों की मदद करने की जरूरत है, ताकि उन्हें अपने कल के बारे में अच्छा विजन मिले. लॉकडाउन के नुकसान के बारे में किसी को कुछ नहीं पता.

साउथ कोरिया जैसे देशों की टेस्टिंग रणनीति अच्छी

टेस्टिंग की रणनीति पर भी राहुल ने सवाल किया. झा ने कहा कि साउथ कोरिया जैसे देशों में टेस्टिंग की जो रणनीति अपनाई गई है वो बेहतर है, ज्यादा टेस्ट करना जरूरी है. आपको ऐसे इलाके भी पहचानने होंगे जहां केस ज्यादा हैं. जो व्यक्ति अस्पताल आए उसका टेस्ट होना बहुत जरूरी है, चाहें उसके आने का कारण कुछ भी क्यों न हो. झा ने ये भी कहा कि जिन्हें कोई बीमारी नहीं है वो ये नहीं सोच सकते उन्हें कोरोना नहीं होगा. BCG वैक्सीन पर प्रोफेसर झा ने कहा कि ये खतरनाक हो सकती है, इस पर अभी रिसर्च के बाद ही कुछ कहा जा सकता है. उन्होंने ये भी कहा कि अगर लोग बाहर ज्यादा रहते हैं तो कोरोना ज्यादा तेजी से फैलेगा.

कोरोनावायरस को एक जगह नहीं रोका जा सकता

राहुल के सवाल पर प्रोफेसर झा ने कहा कि कोरोना को आप एक जगह नहीं रोक सकते, इसलिए केंद्र के साथ ही राज्यों को शक्ति देना बहुत जरूरी है, जिससे इसके खिलाफ लड़ा जा सके.

इस चर्चा से पहले कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला (Randeep Surjewala) ने एक बयान में कहा, “चर्चा की इस कड़ी में कोविड-19 (Covid 19) वायरस की प्रकृति, इसके परीक्षण की रणनीति और महामारी के बाद की दुनिया की कल्पना सहित वायरस व अन्य कई विषयों को शामिल किया गया है”.

किसी के पास लॉकडाउन से निकलने की रणनीति नहीं

राहुल गांधी से बातचीत में प्रोफेसर जोहान ने कहा कि किसी भी देश के पास लॉकडाउन से निकलने की रणनीति नहीं है. इसके लिए हर स्टेप को ध्यान में रखना जरूरी है, पहले ढील दी जाए और अगर मामला बिगड़े तो रणनीति में बदलाव किया जा सकता है.

लॉकडाउन से भारत में अर्थव्यवस्था पर लगेगी गहरी चोट

प्रोफेसर जोहान ने ये भी कहा कि भारत जैसे देश में लॉकडाउन से अर्थव्यवस्था पर गहरी चोट लग सकती है. जोहान ने कहा कि लॉकडाउन में ज्यादातर बुजुर्गों का ख्याल रखने के ज्यादा जरूरत है, युवाओं को बाहर आने दीजिए उनमें कोरोना जल्दी ठीक हो जाता है.

राहुल की इस सीरीज में ये तीसरी बातचीत

कोविड-19 संकट से निपटने के लिए अर्थशास्त्र, सामाजिक विज्ञान, स्वास्थ्य और अन्य क्षेत्रों के विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त विशेषज्ञों के साथ कांग्रेस नेता राहुल द्वारा किए गए संवादों की श्रृंखला में यह तीसरी बातचीत है. इससे पहले राहुल गांधी ने हाल ही में विश्व प्रसिद्ध अर्थशास्त्री रघुराम राजन (Raghuram Rajan)और नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी के साथ बात की थी,

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने मंगलवार को कहा था कि कोविड-19 महामारी के प्रकोप से बचने के लिए लॉकडाउन पूरी तरह से विफल रहा है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts