जिस MNS प्रमुख को दुनिया राज ठाकरे के नाम से जानती है, क्या उसका असली नाम जानते हैं आप?

जिसे दुनिया राज ठाकरे के नाम से जानती है उसका असली नाम कुछ और ही है. आइए बताते हैं क्या महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख का नाम...

महाराष्ट्र नवनिर्माण पार्टी के अध्यक्ष राज ठाकरे का नाम खूब सुर्खियों में रहता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि जो नाम खबरों में रहता है वो उनका असली नाम नहीं है. बात तब खुली जब ईडी ने उन्हें नोटिस भेजा. नोटिस में उनका नाम राज ठाकरे नहीं लिखा है. उनका आधिकारिक नाम स्वरराज एस ठाकरे है यानि स्वरराज श्रीकांत ठाकरे. वो राज ठाकरे के नाम से राजनीति करते हैं.

दरअसल राज के पिता श्रीकांत ठाकरे एक म्यूज़िक डायरेक्टर थे. उन्होंने अपनी पत्नी समेत सभी बच्चों के नाम संगीत से जुड़े रखे. पत्नी को उन्होंने मधुवंती राग पर मधुवंती नाम दिया तो बेटे का नाम स्वरराज रखा यानि स्वरों का राजा. बेटी का नाम रखा गया जयजयवंती जो एक और राग है. बचपन में राज की दोस्ती तबला, वायलिन, गिटार वगैरह से कराई गई लेकिन उनका रुझान कार्टून बनाने की तरफ था. उन्होंने परिवार की ही साप्ताहिक पत्रिका मार्मिक के लिए कार्टून बनाने शुरू कर दिए. एक दिन उनके चाचा बाल ठाकरे ने उन्हें कहा कि मैंने बाल ठाकरे नाम से कार्टून की दुनिया में करियर बनाया, तुम भी राज ठाकरे नाम से करियर शुरू करो. यहीं से उन्होंने अपना नाम बदल लिया.

वैसे प्रवर्तन निदेशालय ने उन्हें जो नोटिस भेजा है वो कोहिनूर CTNL कंपनी के मामले में भेजा है. इस आर्थिक घोटाले में महाराष्ट्र के पूर्व सीएम मनोहर जोशी के बेटे उमेश जोशी सहित एमएनएस अध्यक्ष राज ठाकरे ED के रडार पर चढ़े हैं. दरअसल ILFS ने 225 करोड़ कोहिनूर CTNL को साल 2003 में दिए थे. कोहिनूर CTNL कंपनी मुंबई के दादर में कोहिनूर स्क्वायर बना रही है और इस कंपनी के शेयर होल्डर उमेश जोशी, राज ठाकरे और उन्हीं के करीबी राजन शिरोडकर थे. जिन्होंने कोहिनूर मिल नामबेर 3,421 करोड़ में साल 2003 में खरीदी थी.

2008 में ILFS का निवेश 225 करोड़ था, वो घटकर केवल 90 करोड़ रह गया और ILFS ने अपने सारे शेयर 90 करोड़ में कोहिनूर CTNL को दे दिए. गौर करने वाली बात ये है कि राज ठाकरे ने भी अपने सारे शेयर कंपनी को बेच दिए और कंपनी से बाहर निकल गए. अब ED इस बात की जांच में जुटी है की ILFS ने जो पैसे कोहिनूर को ट्रांसफर किए थे, वे राज ठाकरे के पास कैसे पहुंचे इस में राजन शिडोरकर की क्या भूमिका है, जब कि राज ठाकरे का कोहिनूर CTNL कंपनी में निवेश न के बराबर है.