पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 28वीं पुण्‍यतिथि, ‘वीर भूमि’ जाकर परिवार ने दी श्रद्धांजलि

राजीव गांधी ने अपना बचपन अपने नाना के साथ इलाहाबाद के तीन मूर्ति हाउस में बिताया था.

नई दिल्‍ली: भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की आज 28वीं पुण्‍यतिथि है. 21 मई, 1991 के दिन आत्‍मघाती बम धमाके में राजीव की हत्‍या कर दी गई थी. राजीव गांधी की पत्नी सोनिया और उनके दोनों बच्चों- राहुल और प्रियंका ने यहां पूर्व प्रधानमंत्री के स्मृति स्थल वीर भूमि पर उन्हें श्रद्धांजलि दी. इस दौरान कांग्रेस के अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी भी वीर भूमि पर मौजूद थे.

हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनावों में प्रचार के दौरान राजीव गांधी के खिलाफ अपनी टिप्पणी के लिए आलोचना झेलने वाले मोदी ने ट्वीट किया, “पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी की बरसी पर उन्हें श्रद्धांजलि.”

वीर भूमि जाने के बाद राहुल गांधी ने ट्वीट किया, “मेरे पिता विनम्र, प्यारे और दयालु थे. उन्होंने मुझे प्यार करना और सबका सम्मान करना सिखाया. कभी नफरत ना करना. माफ करना. मुझे उनकी याद आती है. मैं अपने पिता को उनकी बरसी पर प्यार और आभार के साथ याद करता हूं.” प्रियंका गांधी ने हरिवंश राय बच्‍चन की एक कविता पोस्‍ट कर पिता को याद किया.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी दिवंगत नेता को याद करते हुए कहा, “पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की बरसी पर उन्हें बहुत सत्यनिष्ठा से याद कर रही हूं.” ओवरसीज कांग्रेस प्रमुख सैम पित्रोदा ने लगातार कई ट्वीट कर कहा, “आज इस महान नेता को श्रद्धांजलि देने का दिन है जिन्होंने 21वीं सदी के भारत का सपना देखा और साथ ही देश के लिए योगदान को याद करने का दिन है.”

बोर्डिंग स्‍कूल से पढ़े, कॉमर्शियल पायलट थे राजीव

राजीव गांधी भारत के सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री थे. राजीव गांधी का जन्म 20 अगस्त 1944 को बम्बई में हुआ था. राजीव सिर्फ 3 साल के थे जब भारत स्वतंत्र हुआ और उनके नाना जवाहरलाल नेहरू स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री बने. राजीव गांधी ने अपना बचपन अपने नाना के साथ इलाहाबाद के तीन मूर्ति हाउस में बिताया. वे कुछ समय के लिए देहरादून के वेल्हम स्कूल गए लेकिन जल्द ही उन्हें हिमालय की तलहटी में स्थित आवासीय दून स्कूल में भेज दिया गया.

हवाई उड़ान उनका सबसे बड़ा जुनून था. इंग्लैंड से उच्‍च शिक्षा लेकर घर लौटने के बाद उन्होंने दिल्ली फ्लाइंग क्लब की प्रवेश परीक्षा पास की और कॉमर्शियल पायलट का लाइसेंस प्राप्त किया. जल्द ही वे घरेलू एयरलाइंस इंडियन एयरलाइंस के पायलट बन गए. इंग्‍लैंड में पढ़ाई के दौरान की राजीव गांधी की मुलाकात सोनिया गांधी से हुई थी. 1968 में दोनों ने शादी कर ली.

1980 में भाई संजय गांधी की मौत के बाद राजीव ने मां इंदिरा गांधी के राजनैतिक कार्यों में हाथ बंटाना शुरू किया. 1982 एशियन गेम्‍स का नई दिल्‍ली में सफल आयोजन कराने के पीछे राजीव गांधी की महती भूमिका रही. 31 अक्‍टूबर, 1984 को जब इंदिरा अपने अंगरक्षकों की गोलियों का शिकार हुईं तो राजीव को मजबूरन सत्‍ता संभालनी पड़ी. उन्‍हें भारत में संचार क्रांति के जनक के रूप में देखा जाता है.

उन्होंने 1984 से 1991 तक भारत के छठे प्रधानमंत्री के तौर पर सेवा दी. उन्होंने 40 वर्ष की उम्र में अपनी मां, प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद प्रधानमंत्री पद संभाला था, और इसके साथ ही वे देश के सबसे युवा प्रधानमंत्री बन गए थे.

ये भी पढ़ें

वो ‘बदकिस्मत सोफा’ जिस पर बैठनेवाले हर शख्स को मिली दिल दहलाने वाली मौत!

राजीव गांधी के हाथ में दिखने वाले ‘डिजिटल कैमरे’ की सच्चाई