राजीव गांधी को भी विशाल जनादेश मिला लेकिन किसी को डराया नहीं: सोनिया गांधी

सोनिया गांधी ने कहा कि राजीव गांधी ने संदेश दिया कि भारत की बहुलता के साथ भी एकता बनाए रखी जा सकती है

नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) की 75वीं जयंती समारोह के मौके पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. कांग्रेस पार्टी (Congress) पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) की 75वीं जयंती समारोह के उपलक्ष्य में कई कार्यक्रमों का आयोजन करने जा रही है.

सोनिया गांधी ने राजीव गांधी को याद करते हुए कहा कि नियति ने उन्हें 28 साल पहले बर्बरता से हमसे छीन लिया, मगर उनकी यादें, उनकी सोच आज भी हमारे साथ है. उन्होंने कहा, “वह एक मजबूत और आत्मनिर्भर भारत का निर्माण करना चाहते थे. एक ऐसा भारत जिसके नागरिक गरिमापूर्ण जीवन जीते. एक ऐसा भारत जो अपने युवाओं की ऊर्जा पर आगे बढ़ता.”

सोनिया गांधी ने कहा कि राजीव गांधी ने संदेश दिया कि भारत की बहुलता के साथ भी एकता बनाए रखी जा सकती है. कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्षा ने कहा, “राजीव गांधी को 1984 में विशाल जनादेश मिला, लेकिन उन्होंने इसका इस्तेमाल डर का वातावरण बनाने और लोगों को धमकाने के लिए नहीं किया. उन्होंने कभी अपनी ताकत का इस्तेमाल लोकतंत्र के सिद्धान्तों को खतरे में डालने के लिए नहीं किया.”

उन्होंने नॉर्थ-ईस्ट में शांति स्थापित करने के लिए कांग्रेस पार्टी के हितों को एक तरफ रखकर हालात सामान्य बनाए. भारत की अर्थव्यवस्था के वैश्विकरण और विश्वव्यापी बनाने का पहला कदम राजीव गांधी ने उठाया. साथ ही वो इस बात के लिए भी सचेत रहे कि अगर भारत को दुनिया के मंच पर विशेष तमगा हासिल करना है तो उसे स्वंय समावेशी बनकर रहना होगा. यह काम घमंड दिखाकर, नारे लगाकर नहीं किया जा सकता, बल्कि कर्म करके दिखाना होगा.