चीन से विवाद के बीच सीमाओं पर 43 पुल बनकर तैयार, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज करेंगे उद्घाटन

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) आज 7 राज्यों में बने 43 पुलों का उद्घाटन करनेवाले हैं. 43 पुलों में लद्दाख के भी सात पुल शामिल हैं, जो रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण हैं और ये सशस्त्र बलों की सैनिकों और हथियारों के आवागमन में मदद करेंगे.

Rajnath Singh Bridges

पाकिस्तान और चीन से होनेवाले बॉर्डर विवाद के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh Bridges Inauguration) आज 7 राज्यों में बने 43 पुलों का उद्घाटन करेंगे. ये पुल लद्दाख, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब और जम्मू कश्मीर के सीमावर्ती क्षेत्रों में बनाए गए हैं. अधिकारियों ने बताया कि 43 पुलों में लद्दाख के भी सात पुल शामिल हैं, जो रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण हैं और ये सशस्त्र बलों की सैनिकों और हथियारों के आवागमन में मदद करेंगे.

कार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल हर्ष वर्धन पांडे ने कहा, ‘रक्षा मंत्री सात राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में पुलों का उद्घाटन (Rajnath Singh Bridges Inauguration) एक ऑनलाइन कार्यक्रम में करेंगे।’

पढ़ें – लद्दाख में एक इंच भी पीछे नहीं हटे चीन के सैनिक, भारत भी हर चाल का जवाब देने को तैयार

लद्दाख विवाद के बीच पुलों का उद्घाटन

सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा निर्मित इन पुलों का उद्घाटन ऐसे वक्त में किया जा रहा है, जब पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच विवाद चल रहा है. जानकारी मिली है कि इन 43 पुलों में से 10 जम्मू कश्मीर में, दो हिमाचल प्रदेश में, आठ-आठ उत्तराखंड और अरुणाचल प्रदेश और चार-चार सिक्किम और पंजाब में स्थित हैं.

 

उन्होंने आगे बताया कि रक्षा मंत्री अरुणाचल प्रदेश के तवांग में नेचिपु सुरंग की आधारशिला भी रखेंगे। यह सुरंग राज्य की राजधानी ईटानगर से 448 किमी उत्तर-पश्चिम में और चीन की सीमा से लगे तवांग तक की यात्रा के समय को कम कर देगी।

बॉर्डर विवाद के बीच भारत कुछ और प्रोजेक्ट पर भी काम शुरू करने का विचार कर रहा है. इसमें हिमाचल प्रदेश के दारचा से लद्दाख को जोड़नेवाली एक सड़क भी शामिल है. 290 किलोमीटर की यह सड़क जवानों के आने-जाने और सेना के सामान को इधर से उधर ले जाने में काफी मददगार साबित हो सकती है.

Related Posts