सभी को हिंदू कहना ठीक नहीं, मोहन भागवत के बयान पर बोले रामदास अठावले

रामदास अठावले ने कहा कि 'एक ऐसा भी समय था जब देश में हर कोई बौद्ध था. अगर मोहन भागवत के कहने का यह मतलब है कि हर कोई भारतीय है, तो यह ठीक है.'
Ramdas Athawale Statement, सभी को हिंदू कहना ठीक नहीं, मोहन भागवत के बयान पर बोले रामदास अठावले

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने गुरुवार को कहा कि ‘यह कहना सही नहीं है कि सभी भारतीय हिंदू हैं.’ अठावले का यह बयान आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के ‘हिंदू’ वाले बयान की प्रतिक्रिया में आया है. भागवत ने कहा था कि भारत की 130 करोड़ की जनसंख्या हिंदू समाज है.

अठावले ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा, “यह कहना सही नहीं है कि सभी भारतीय हिंदू हैं. एक ऐसा भी समय था जब देश में हर कोई बौद्ध था. अगर मोहन भागवत के कहने का यह मतलब है कि हर कोई भारतीय है, तो यह ठीक है.”

उन्होंने कहा कि हमारे देश में बौध्द, सिख, हिंदू, ईसाई, पारसी, जैन और लिंगायत में विश्वास रखने वाले लोग रहते हैं.


आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने बुधवार को कहा था कि भारत पारंपरिक रूप से हिंदुत्ववादी रहा है. संघ मानता है कि देश की 130 करोड़ की जनसंख्या ‘हिंदू समाज’ है. ऐसा विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों के बावजूद है.

भागवत ने कहा, “आरएसएस जब किसी को हिंदू कहता है तो इसका मतलब यह है कि वो लोग भारत को अपनी मातृभूमि मानते हैं और इससे प्रेम करते हैं. भारत मां का हर बेटा हिंदू है. इसके बावजूद कि वो कौन सी भाषा बोलता है, वह किस धर्म को मानता है, वह किसी पूजा पद्धति का अनुसरण करता है या नहीं.”

संघ प्रमुख ने ये बातें हैदराबाद में जारी तीन दिवसीय क्रार्यक्रम में मौजूद एक सभा को संबोधित करते हुए कहीं.

अठावले ने आर्मी चीफ जनरल विपिन रावत के बयान पर जारी बहस पर भी अपनी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा कि ‘आर्मी चीफ का कहना सही है कि हमारे नेताओं को जनता को हिंसा के रास्ते पर नहीं ले जाना चाहिए. मैं सभी प्रदर्शनकारियों से गुजारिश करता हूं कि आप लोग शांतिपूर्ण तरीके से सरकार तक अपनी मांगें पहुंचाएं. सीएए मुस्लिम-विरोधी नहीं है.’

ये भी पढ़ें-

नेहरू के नहीं, साहिबजादों के बलिदान के लिए मनाया जाए बाल दिवस: मनोज तिवारी

अदनान सामी ने कसा पाकिस्तानी मुस्लिमों पर तंज, कहा- मुसलमानों की इतनी चिंता है तो खोल दो बॉर्डर

Related Posts