रमेश पोखरियाल निशंक उत्तराखंड के ऐसे पहले सांसद जो सीधे बने कैबिनेट मंत्री

निशंक ने यह भी दावा किया था कि 'भारत में परमाणु परीक्षण तो लाखों साल पहले हो चुका है और यह परीक्षण संत कणाद ने किया था.'

नई दिल्ली: राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सलाह के अनुसार केंद्रीय मंत्रिपरिषद के सदस्यों के बीच विभागों के आवंटन का निर्देश दिया. उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और हरिद्वार लोकसभा सीट से बीजेपी सांसद रमेश पोखरियाल निशंक को मानव संसाधन विकास मंत्री बनाया गया है. उत्तराखंड के अलग राज्य बनने के बाद यह पहला मौका है जब राज्य के किसी सांसद को सीधे कैबिनेट मंत्री बनाया गया है.

‘खगोल विज्ञान से आगे ज्योतिष’
निशंक ने साल 2014 में लोकसभा में खगोल विज्ञान को ज्योतिष के आगे बौना बताया था. उन्होंने कहा था कि ज्योतिष, खगोल विज्ञान से कहीं आगे है, इसलिए दुनिया भर में ज्योतिष को प्राथमिकता दी जानी चाहिए.

निशंक ने यह भी दावा किया था कि ‘भारत में परमाणु परीक्षण तो लाखों साल पहले हो चुका है और यह परीक्षण संत कणाद ने किया था. साथ ही प्राचीन भारत की चिकित्सा प्रणाली आज से बेहतर थी, क्योंकि उस समय सर्जरी के जरिए भगवान गणेश को हाथी का सिर लगाया गया था.’


‘ज्योतिष का न उड़ाएं मजाक’
बीजेपी सांसद ने ‘योजना एवं वास्तुकला विद्यालय विधेयक, 2014’ पर चर्चा में भाग लेते समय यह बात कही थी. उनका कहना था कि परमाणु की अवधारणा भारत में सदियों पहले से ज्ञात है. ज्योतिष का मजाक नहीं उड़ाया जाना चाहिए, क्योंकि जिस आयुर्वेद को भी पहले इसी तरह परिहास का विषय बताया जाता था, उसे आज अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिल रही है.

निशंक ने इस बयान पर संसद में काफी हंगामा हुआ था. विपक्ष के सदस्यों ने इस पर कड़ा ऐतराज जताया था. वामपंथी सांसदों ने खासतौर पर इसे लेकर विरोध जताया था. दोनों पक्षों के बीच इस पर कुछ नोंकझोंक भी हुई थी.

ये भी पढ़ें-

रिटायर्ड IAS से लेकर डॉक्टर-इंजीनियर-बिजनेसमैन-गायक तक, बेहद अनूठा है मोदी कैबिनेट

46 से बढ़कर हुए 58 मंत्री, 2014 में ‘मिनिमम गवर्नमेंट, मैक्सिमम गवर्नेंस’ का किया था वादा

मंत्री पद से चूके अनंत हेगड़े को महंगा पड़ा गोडसे प्रेम?