Rafale, RB-01: पहले राफेल का टेल नं. नए IAF चीफ के नाम पर रखा गया, जानें भारत कब आएगा ये लड़ाकू विमान
Rafale, RB-01: पहले राफेल का टेल नं. नए IAF चीफ के नाम पर रखा गया, जानें भारत कब आएगा ये लड़ाकू विमान

RB-01: पहले राफेल का टेल नं. नए IAF चीफ के नाम पर रखा गया, जानें भारत कब आएगा ये लड़ाकू विमान

वायुसेना के अगले चीफ एयर मार्शल भदौरिया भारतीय वायुसेना के पहले पायलट हैं जिन्होंने राफेल जेट उड़ाया है.
Rafale, RB-01: पहले राफेल का टेल नं. नए IAF चीफ के नाम पर रखा गया, जानें भारत कब आएगा ये लड़ाकू विमान

फ्रांस ने भारतीय वायुसेना को पहला राफेल फाइटर जेट सौंप दिया है. गुरुवार को दसॉ एविएशन ने पहला राफेल जेट भारत को सौंप दिया जिसका टेल नंबर RB-01 है. इस विमान में उप वायुसेना प्रमुख एयर मार्शल वीआर चौधरी ने लगभग एक घंटे तक उड़ान भरी.

इस राफेल जेट का टेल नंबर RB-01 भारतीय वायुसेना के अगले चीफ एयर मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया के नाम को दर्शाता है. भदौरिया भारतीय वायुसेना के पहले पायलट हैं जिन्होंने राफेल जेट उड़ाया है. वायुसेना के वर्तमान एयर चीफ मार्शल धनोआ चीफ ऑफ एयर स्टाफ के पद से 30 सितंबर को रिटायर होंगे, जिसके बाद राकेश कुमार सिंह भदौरिया उनकी जगह लेंगे.

करीब 4250 घंटे तक ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट और फाइटर विमान उड़ाने का अनुभव रखने वाले एयर मार्शल भदौरिया 26 तरह के फाइटर और ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट उड़ाने में पारंगत हैं. उन्हें अति विशिष्ट सेवा मेडल (AVSM), परम विशिष्ट सेवा मेडल (PVSM), वायु सेवा मेडल (VM) और एडीसी से नवाजा जा चुका है.

राफेल जेट को 8 अक्टूबर को आधिकारिक तौर पर भारतीय वायुसेना में शामिल किया जाएगा. 8 तारीख चुने जाने की खास वजह ये भी है इस दिन दशहरा और एयर फोर्स डे दोनों है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 8 अक्टूबर को पहला भारतीय राफेल लड़ाकू विमान लेने के लिए फ्रांस जाएंगे. हालांकि ये विमान मई, 2020 में ही भारत पहुंचना शुरू होंगे.

Rafale, RB-01: पहले राफेल का टेल नं. नए IAF चीफ के नाम पर रखा गया, जानें भारत कब आएगा ये लड़ाकू विमान

 राफेल से जुड़ी 10 बड़ी खास बातें-

  • अधिकतम मारक क्षमता 3700 किमी. तक और स्पीड 2,130 किमी/घंटा
  • 24,500 किलो का भार उठाने में सक्षम और 60 घंटे की अतिरिक्त उड़ान
  • 6 महीने की गारंटी के साथ हथियारों का स्टोरेज
  • 4.5 जेनरेशन के दो इंजन वाला लड़ाकू विमान जो हर तरह के मिशन में भेजने के काबिल
  • हवा से जमीन पर मार वाली स्कैल्प मिसाइल की रेंज 300 किमी
  • हाईटेक हथियारों से लैस, प्लेन के साथ-साथ मेटेअर मिसाइल
  • 1 मिनट में 60,000 फ़ुट की ऊंचाई
  • परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम और 75% विमान ऑपरेशन के लिए हमेशा तैयार
  • अफगानिस्तान और लीबिया में कर चुका है ताकत का प्रदर्शन
  • 150 किमी की बियोंड विज़ुअल रेंज मिसाइल

माना जा रहा है कि भारतीय वायुसेना में इनके शामिल होते ही पाकिस्तान के F-16 का माकूल जवाब तैयार हो जाएगा.

जानिए भारत का राफेल पाकिस्तान के फाल्कन का मुकाबला कैसे करेगा..

एक तरफ F-16 है जो फोर्थ जेनेरेशन सिंगल इंजन सुपरसोनिक मल्टीरोल एयरक्राफ्ट है तो दूसरी तरफ राफेल है जो एक ट्विन जेट लड़ाकू विमान है जिसमें एयरक्राफ्ट कैरियर और ज़मीनी बेस दोनों से ही उड़ान भरने की क्षमता है.

Rafale, RB-01: पहले राफेल का टेल नं. नए IAF चीफ के नाम पर रखा गया, जानें भारत कब आएगा ये लड़ाकू विमान

दोनों विमान 50 हजार फीट तक की ऊंचाई पर उड़ सकते हैं. हालांकि राफेल रेंज और स्पीड में F-16 से पीछे है लेकिन कम देरी में ऊंचाई पहुंचने के मामले में राफेल आगे है. इसके अलावा ईंधन क्षमता की बात करें तो इस मामले में F-16  राफेल के सामने उन्नीस ही साबित होता है. हां, ये ठीक है कि F-16 में F-22 और F-35 वाली तकनीक जैसे  Active Electronically Scanned Array (AESA) APG-83 रडार की क्षमता है. ये 120 किलोमीटर के दायरे में दुश्मन को खोजकर खत्म कर सकता है. वहीं अब बात राफेल की करें तो उसमें 4 तकनीकों का इस्तेमाल किया गया है.

Rafale, RB-01: पहले राफेल का टेल नं. नए IAF चीफ के नाम पर रखा गया, जानें भारत कब आएगा ये लड़ाकू विमान

पहली है मल्टी डायरेक्शन रडार जो सौ किलोमीटर के दायरे में एक साथ 40 टारगेट ढूंढ सकता है. दूसरी तकनीक है Undetectable Passive Radar Sensor जो एक सटीक ऑप्टिकल कैमरा है. तीसरी तकनीक है Recognizance Pod जो ऐसा डिजिटल कैमरा है जिसमें किसी भी गति पर फोटो खींचा जा सकता है.

Rafale, RB-01: पहले राफेल का टेल नं. नए IAF चीफ के नाम पर रखा गया, जानें भारत कब आएगा ये लड़ाकू विमान

चौथी तकनीक है स्पेक्ट्रा डिफेंस सिस्टम जिसमें  दुश्मन के रडार सिग्नल को जाम करने की योग्यता है. ये मिसाइल आने की चेतावनी देता है और अगर मिसाइल विमान के काफी पास आ जाए तो decoy सिग्नल छोड़ता है. ये सिग्नल प्लेन के पीछे से छूटते हैं और दुश्मन की मिसाइल को लक्ष्य से भटका देते हैं.

ये भी पढ़ें- वित्त मंत्री की घोषणा के बाद झूमा शेयर बाजार, टूटा 10 साल पुराना रिकॉर्ड, निवेशकों ने कमाए 5 लाख करोड़

Rafale, RB-01: पहले राफेल का टेल नं. नए IAF चीफ के नाम पर रखा गया, जानें भारत कब आएगा ये लड़ाकू विमान
Rafale, RB-01: पहले राफेल का टेल नं. नए IAF चीफ के नाम पर रखा गया, जानें भारत कब आएगा ये लड़ाकू विमान

Related Posts

Rafale, RB-01: पहले राफेल का टेल नं. नए IAF चीफ के नाम पर रखा गया, जानें भारत कब आएगा ये लड़ाकू विमान
Rafale, RB-01: पहले राफेल का टेल नं. नए IAF चीफ के नाम पर रखा गया, जानें भारत कब आएगा ये लड़ाकू विमान