ट्रैक्टर जलाने की घटना पर बोले तेजस्वी सूर्या, ‘असली किसान ऐसा कभी नहीं करता’

बीजेपी के महासचिव भूपेंद्र यादव ने कगा कि किसान अपने कृषि उपकरों से प्यार करते हैं. वह कभी भी ट्रैक्टर को आग नहीं लगा सकते. कांग्रेस किसानों (Farmers) को बदनाम करने के लिए ऐसा कर रही है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 5:39 pm, Mon, 28 September 20
Tejaswi surya india gate
इंडिया गेट ट्रैक्टर जलाने की घटना को बीजेपी युवा मोर्चा अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या ने यूथ कांग्रेस की साजिश करार दिया है.

सोमवार को दिल्ली के हाई सिक्योरिटी जोन के अंतर्गत आने वाले इंडिया गेट (India Gate) के नजदीक प्रदर्शन के दौरान एक ट्रैक्टर को आग के हवाले कर दिया गया. पुलिस ने इस मामले में 5 लोगों को गिरफ्तार किया है. यह सभी पंजाब के रहने वाले हैं. जानकारी के मुताबिक इनका संबंध पंजाब यूथ कांग्रेस (Youth Congress) से है.

इस घटना का वीडियो पंजाब यूथ कांग्रेस के फेसबुक पेज पर लाइव दिखाया गया था. बीजेपी ने इस घटना को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है.

बीजेपी युवा मोर्चा के अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या (Tejaswi Surya) ने कहा ”एक असली किसान कभी भी ट्रैक्टर को नहीं फूंक सकता है. यह उसकी जान होती है. किसानों को बदनाम करने के लिए यह यूथ कांग्रेस ने किया है. कृषि कानून किसानों के हित में है. कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में इन बदलावों का वादा किया था. लेकिन जब मोदी सरकार वही काम कर रही है तो कांग्रेस यू-टर्न ले रही है.”

बीजेपी ने बताया ‘ड्रामा’

बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इस घटना को लेकर कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने आज देश को शर्मिंदा किया है. एक ट्रैक्टर को ट्रक में लाना और उसे इंडिया गेट के पास आग लगा देना एक ड्रामा है. कांग्रेस ऐसा करके किसानों को गुमराह करना चाहती है.

यह भी पढ़ें- किसान बिल में एमएसपी विवाद की क्या है हकीकत, समझें MSP और प्रोक्योरमेंट का अंतर

बीजेपी के महासचिव भूपेंद्र यादव ने कगा कि किसान अपने कृषि उपकरों से प्यार करते हैं. वह कभी भी ट्रैक्टर को आग नहीं लगा सकते. कांग्रेस किसानों को बदनाम करने के लिए ऐसा कर रही है.

यह जनता का गुस्सा है

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्रैक्टर जलाने की घटना पर कहा कि यह किसानों का गुस्सा है जो देखने को मिल रहा है. किसान को यह नहीं पता कि अब उससे उसकी फसल कौन खरीदेगा. उसे नहीं पता कि अचानक से उसे अगर पैसों की जरूरत पड़ी तो वो कहां से लाएगा.

यह भी पढ़ें- सरकार का बड़ा फैसला, 1 अक्टूबर से सरसों तेल में मिलावट पर रोक, किसानों और ग्राहकों को होगा फायदा

कैप्टन अमरिंदर सिंह देश के पहले ऐसे मुख्यमंत्री हैं जो कृषि कानून के विरोध में खुलकर आए हैं. वह लगातार इस कानून के खिलाफ केंद्र सरकार पर हमला बोल रहे हैं.