मूर्तियों को छूने की इजाजत नहीं, प्रसाद चढ़ाने और जल छिड़काव की मनाही, धार्मिक स्थलों के लिए गाइडलाइन

धार्मिक स्थलों पर रिकॉर्डेड भक्ति संगीत बजाया जा सकता है, लेकिन कोरोनावायस (Coronavirus) संक्रमण के खतरे से बचने के लिए समूह में गाने की अनुमति नहीं होगी.
Religious institutions closed, मूर्तियों को छूने की इजाजत नहीं, प्रसाद चढ़ाने और जल छिड़काव की मनाही, धार्मिक स्थलों के लिए गाइडलाइन

कोरोनावायरस (Coronavirus) लॉकडाउन में तकरीबन दो महीने से बंद धार्मिक संस्थान 8 जून से दोबारा खुलेंगे. गुरुवार को केंद्र सरकार ने इसे लेकर गाइडलाइन (Guideline) जारी की. इस गाइडलाइन में यह साफ तौर कहा गया है कि कंटेनमेंट जोन (Containment Zone) में स्थित धार्मिक संस्थान बंद रहेंगे. धार्मिक संस्थानों को लेकर जारी गाइडलाइन की मुख्य बातें इस प्रकार से हैं…

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

  • कंटेनमेंट जोन के भीतर स्थित धार्मिक स्थल फिलहाल बंद रहेंगे, जबकि इसके बाहर स्थित धार्मिक स्थलों को खोलने की इजाजत होगी.
  • इन परिसरों में शारीरिक दूरी और अन्य एहतियाती उपायों का पालन करना जरूरी है.
  • धार्मिक स्थलों पर रिकॉर्डेड भक्ति संगीत बजाया जा सकता है, लेकिन संक्रमण के खतरे से बचने के लिए समूह में गाने की अनुमति नहीं होगी.
  • श्रद्धालुओं को धर्मस्थल पर सार्वजनिक आसन इस्तेमाल करने के स्थान पर अपना आसन या चटाई लानी होगी और उसे अपने साथ ही वापस ले जाना होगा.
  • धर्मस्थलों पर प्रसाद जैसी भेंट नहीं चढ़ाई जाएंगी और न ही पवित्र जल का छिड़काव या वितरण किया जाएगा.
  • सामुदायिक रसोई, लंगर और अन्न दान इत्यादि की तैयारी और भोजन के वितरण में शारीरिक दूरी के मानकों का पालन करना होगा.

  • सभी धर्मस्थल प्रवेश द्वार पर अनिवार्य रूप से हैंड सैनिटाइजर और थर्मल स्क्रीनिंग सुनिश्चित किया जाएगा.
  • सिर्फ बिना लक्षणों वाले मास्क लगाए श्रद्धालुओं को ही प्रवेश की इजाजत होगी.
  • श्रद्धालुओं को साबुन से हाथ-पैर धोकर परिसर में जाना होगा.
  • धर्मस्थल पर प्रतिमाओं और धार्मिक पुस्तकों को छूने की अनुमति नहीं होगी.
  • कोविड-19 के एहतियाती उपायों के बारे में ऑडियो-वीडियो के जरिये जागरूकता भी फैलाई जाएगी.
  • संभव हो तो श्रद्धालु अपने जूते-चप्पलों को अपने वाहन में ही उतारेंगे. लेकिन जरूरत पड़ने पर व्यक्ति या परिवार के जूते-चप्पलों को श्रद्धालु द्वारा स्वयं अलग स्लॉट में रखा जाएगा.
  • धर्मस्थल के भीतर या बाहर स्थित दुकानों, स्टॉलों और कैफेटेरिया में शारीरिक दूरी मानकों का पालन करना जरूरी है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts