क्या आप भी डरते हैं सोशल मीडिया पर राजनीतिक विचार जाहिर करने में, पढ़िए चौंकाने वाली रिपोर्ट

सोमवार को आई रिपोर्ट के मुताबिक 2012 से अब तक सोशल मीडिया में भड़काऊ या आक्रामाक मैसेज करने के आरोप में अबतक 17 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

नई दिल्ली: रायटर्स इंस्टीट्यूट के भारतीयों पर डिजिटल न्यूज हैबिट पर आई रिपोर्ट के मुताबिक अंग्रेजी बोलने वाले 55% भारतीय उपभोक्ताओं को यह चिंता रहती है कि, अपने राजनीतिक विचारों को वे अगर सोशल मीडिया पर शेयर करेंगे तो ये उनके लिए परेशानी का सबब बन सकता है.

सोमवार को आई रिपोर्ट के मुताबिक 2012 से अब तक सोशल मीडिया में भड़काऊ या आक्रामाक मैसेज करने के आरोप में अबतक 17 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.
सर्वे में शामिल होने वाले 68% लोगों ने स्मार्टफोन को खबर का जरिया बताया साथ ही 52 % लोगों ने माना कि वे फेसबुक के जरिए ही खबरों से रूबरू होते है. 52% वॉट्सएप 26% इंस्टाग्राम 18% टि्वटर और 16% लोग फेसबुक मैसेंजर से खबरे पढ़ते है.

साथ ही सर्वे में शामिल 56% लोगों ने कहा कि उनका खबरों का मुख्य स्रोत ऑनलाइन ही है. वही 36% लोगों को ऑनलाइन समाचार की विश्वसनीयता पर कम भरोसा है. लेकिन 45% लोग समाचार को मुख्य जरिया इंटरनेट ही मानते है. 34% लोगों को ऑनलाइन समाचार पर पूरी तरह भरोसा है. 57% लोगों ने ऑनलाइन खबरों को फर्जी होने की आशंका जताई.