Republic Day 2020: गणतंत्र दिवस से दो महीने पहले क्यों मनाते हैं संविधान दिवस, जानिए दोनों में अंतर

पूरा देश आज 71वां गणतंत्र दिवस मना रहा है. ट्विटर पर #RepublicDayIndia और #गणतंत्र_दिवस ट्रेंड हो रहा है. गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को मनाया जाता है लेकिन एक और 26 तारीख होती है जिस दिन संविधान दिवस मनाया जाता है.

पूरा देश आज 71वां गणतंत्र दिवस मना रहा है. ट्विटर पर #RepublicDayIndia और #गणतंत्र_दिवस ट्रेंड हो रहा है. गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को मनाया जाता है लेकिन एक और 26 तारीख होती है जिस दिन संविधान दिवस मनाया जाता है. वह तारीख होती है 26 नवंबर. अक्सर लोग कनफ्यूज हो जाते हैं कि जिस दिन से संविधान लागू हुआ उस दिन गणतंत्र दिवस मनाते हैं तो 26 नवंबर को संविधान दिवस क्यों मनाया जाता है. आइए इसका जवाब जानते हैं.

गणतंत्र दिवस

जैसा कि सभी जानते हैं दुनिया का सबसे बड़ा संविधान 26 जनवरी 1950 को अपने देश में लागू हुआ. इस दिन को हर साल गणतंत्र दिवस या रिपब्लिक डे के रूप में मनाया जाता है. दिल्ली के इंडिया गेट पर सेना की परेड निकलती है. सभी प्रदेशों की प्यारी-प्यारी झांकियां आती हैं. जो लोग दिल्ली परेड देखने नहीं पहुंचते वे टीवी पर देखते हैं. टीवी पर जो लोग परेड नहीं देखते वे तिरंगा फिल्म देखते हैं.

संविधान दिवस

अब आते हैं संविधान दिवस पर, जो कि 26 नवंबर को मनाया जाता है. ये परंपरा 1949 से आ रही है. दरअसल संविधान लागू करने से पहले उसे लिखा जाना जरूरी था जिसमें बहुत से विद्वान लोग और ढेर साला समय लगा. 9 दिसंबर 1946 को संविधान लिखना शुरू किया गया. सच्चिदानंद सिन्हा संविधान लिखने वाली सभा के सभापति थे. बाद में ये पद डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद को मिला.

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को विधिवेत्ता अध्यक्ष चुना गया. 2 साल 11 महीने 18 दिन में कड़ी मेहनत से संविधान लिखा गया और डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने 26 नवंबर 1949 को भारत को सौंप दिया गया. इस दिन को 65 वर्षों तक ‘विधिक दिवस’ के रूप में मनाया जाता रहा. 26 नवंबर 2015 से परिपाटी बदली और इसे संविधान दिवस के रूप में मनाया जाने लगा.

ये भी पढ़ेंः

Republic Day 2020 : दिल में देशभक्ति की अलख जगा देंगी ये लाइनें, भेजकर अपनों को करें विश

Republic Day 2020 : आज फिर देखेगी पूरी दुनिया- हिंदुस्तान का सांस्कृतिक, आर्थिक और सैन्य पराक्रम

Related Posts