गणतंत्र दिवस : पहले लेंगे परेड में हिस्‍सा, फिर प्‍याज खरीदकर लेह लौट जाएंगे रिटायर्ड सैनिक

'अशोक चक्र' से सम्‍मानित 75 साल के रिटायर्ड नायब सूबेदार छेरिंग मुटुप गणतंत्र दिवस समारोह में हिस्‍सा लेने दिल्‍ली आए हैं.

दिल्ली में 71वें गणतंत्रता दिवस परेड की तैयैरियां जोरों पर है. इसमें शिरकत करने रिटायर्ड नायब सूबेदार छेरिंग मुटुप भी लेह से आए हुए हैं. वह परेड के बाद दिल्ली से लौटते हुए अपने साथ कई किलो प्‍याज ले जाना चाहते हैं. ऐसा इसलिए क्‍योंकि लेह में प्याज की कीमत 220 रूपए किलो से ज्यादा है. उनके मुताबिक, दिल्ली में 60 रूपए किलो प्याज है. यहां से प्याज लेकर जाना ज्यादा सस्ता और आसान पड़ेगा.

75 साल के मुटुप को 1985 में शांतिकाल में देश के सर्वोच्च पुरस्कार ‘अशोक चक्र’ से नवाजा जा चुका है. मुटुप उन 6 अशोक चक्र विजेताओं में से हैं जो गणतंत्र दिवस परेड में हिस्‍सा लेंगे. उनके दो बेटे और तीन पोते सेना में अपनी सेवाएं दे रहे हैं. इनके अलावा परम वीर चक्र (युद्धकाल में भारत का सर्वोच्‍च सैन्‍य सम्‍मान) पाने वाले तीन सैनिक भी समारोह में शामिल होंगे.

मुटुप ने हिंदुस्‍तान टाइम्‍स से कहा, “दिल्‍ली में प्‍याज 60 रुपये किलो है. लेह में 200 रुपये (किलो) से भी ज्‍यादा देना पड़ता है. मैंने सोचा है कि जब 31 जनवरी को वापस लौटूंगा तो सात-आठ किलो प्‍याज लेता जाऊंगा. और ज्‍यादा ले जाता मगर वजन को लेकर पाबंदियां हैं.”

पिछले कुछ महीनों में प्‍याज के दाम दोगुने से भी ज्‍यादा हो गए हैं. नॉर्मल सप्‍लाई में प्‍याज 15-30 रुपये में बिकता है. इस साल भारी बारिश की वजह से करीब 30 फीसदी फसल बर्बाद हो गई.

ये भी पढ़ें

पाकिस्तान की नापाक साजिश, लंदन में 26 जनवरी को भारतीय संविधान जलाने का बनाया प्लान

मां को याद करते ही उतर जाती है थकान’, देश के बालवीरों से बोले PM मोदी