कश्‍मीर पर रूस का चीन को झटका, कहा- ये सिर्फ भारत-पाकिस्‍तान का मामला

370 हटाए जाने का समर्थन करते हुए रूस के राजदूत ने दो टूक कहा, कश्मीर भारत-पाकिस्तान का द्विपक्षीय मामला है, तीसरे देश को दखल देने की जरूरत नहीं है. जहां तक हमारा सवाल है तो कश्मीर पर भारत सरकार की जो भी नीति है, हम उसके साथ खड़े है.

5 अगस्त को केंद्र सरकार द्वारा जम्मू- कशमीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के फैसले को कई देशों से भरपूर समर्थन मिला है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में चीन की तरफ से कश्मीर मुद्दा उठाए जाने की कोशिशों के बीच अब  रूस के राजदूत ने दो टूक कहा कि कश्मीर भारत-पाकिस्तान का द्विपक्षीय मामला है, तीसरे देश को दखल देने की जरूरत नहीं है. जहां तक रूस का सवाल है तो कश्मीर पर भारत सरकार की जो भी नीति है, वो उसके साथ खड़ा है. ये हमारे लिए मुद्दा नहीं है.

जब रूस के राजदूत से 16 विदेशी राजनयिकों के कश्मीर दौरे को लेकर सवाल किया गया तो रूस ने कहा, ‘अगर किसी को संदेह है तो वो कश्मीर जा सकता है, जिन्हें कश्मीर के हालात की चिंता है और कश्मीर की परिस्थितियों को लेकर शक है, वो वहां जाकर खुद देख सकते हैं.  लेकिन जहां तक हमारी बात है, तो मुझे नहीं लगता है कि कश्मीर के हालात का जायजा लेने के लिए हमें वहां जाने की जरूरत है. ये भारत का आंतरिक मामला है. जम्‍मू-कश्‍मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने का फैसला भारत के संविधान के तहत लिया गया है.

साथ ही रूस के उप राजदूत रोमन बाबूसकिन के मुताबिक, 2025 तक 5 S400 मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम भारत को दिया जाएगा। रूस के पास दुनिया का सबसे अच्‍छा मिसाइल डिंफेस सिस्टम है और ये भारत के लिए बहुत अच्‍छा साबित होगा.

ये भी पढ़ें-     

बड़ा खुलासा : अयान अल-असद एयरबेस पर ईरान के मिसाइल अटैक में घायल हुए थे 11 अमेरिकी सैनिक

 ट्रप ने कहा ‘भारत से नहीं लगी चीन की सीमा’ तो बीच मीटिंग से उठ गए मोदी, किताब में दावा