Raisina Dialogue: रूस के विदेश मंत्री ने कहा- भारत को जल्द मिले UNSC की स्थायी सदस्यता

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में 15 देश सदस्य है. इसमें पांच स्थायी और दस अस्थायी सदस्य हैं. अस्थायी सदस्य दो वर्ष के लिए चुने जाते हैं. पांच स्थायी सदस्य देश चीन, फ्रांस, रूस, ग्रेट ब्रिटेन और संयुक्त राज्य अमेरिका हैं.

रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने बुधवार को भारत को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) का स्थायी सदस्य बनाने की मांग की है. उन्होंने लंबे समय से भारत की ओर से उठाई जा रही है संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य बनाए जाने की मांग का पुरजोर समर्थन किया है.

भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से दिल्ली में रायसीना डायलॉग का आयोजन किया गया. इसमें शामिल हुए रूस के विदेश मंत्री लावरोव ने दोनों देशों के करीबी रिश्तों पर चर्चा की. उन्होंने कहा, “हमारा मानना ​​है कि भारत को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य होना चाहिए.”

लावरोव से जब यूरेशिया के आइडिया के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि हम दार्शनिक शब्दावली के खिलाफ हैं, लेकिन कम से कम ये व्यावहारिक तो हो.

डायलॉग के दौरान उन्होंने पूछा, “हिंद-प्रशांत और एशिया प्रशांत बनाने की क्या जरूरत है? जवाब साफ है कि आप चीन को अलग करना चाहते हैं. हमारा काम लोगों को जोड़ना होना चाहिए, बांटना नहीं. इस मामले में हम भारत की नीति का समर्थन करते हैं. क्योंकि भारत किसी को घेरने या दबाने की कोशिश नहीं करता. शंघाई को-ऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (एससीओ) और ब्रिक्स दोनों ही समूह देशों को जोड़ने का काम करते हैं.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में 15 देश सदस्य है. इसमें पांच स्थायी और दस अस्थायी सदस्य हैं. अस्थायी सदस्य दो वर्ष के लिए चुने जाते हैं. पांच स्थाई सदस्य देश चीन, फ्रांस, रूस, ग्रेट ब्रिटेन और संयुक्त राज्य अमेरिका हैं.

ये भी पढ़ें –

Army Day: सेना प्रमुख नरवणे बोले- चीन और पाकिस्तान सीमा पर सतर्क रहें जवान

ईरान के विदेश मंत्री ने कहा, ‘430 भारतीय शहरों में हुए कासिम सुलेमानी की हत्या के खिलाफ प्रदर्शन’