कभी चूल्‍हे पर पकी रोटी खाई, कभी खेला कैरम; पुरी से फिर भी हार गए संबित पात्रा

पात्रा ने एक वीडियो ट्वीट किया था जिसमें वह एक बुजुर्ग महिला के घर खाना खाते दिख रहे थे. इस वीडियो पर उन्‍हें खूब ट्रोल किया गया था.

नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन के बावजूद भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रवक्‍ता संबित पात्रा चुनाव हार गए. पुरी लोकसभा सीट से करीबी लड़ाई में पात्रा को बीजू जनता दल (BJD) सांसद पिनाकी मिश्र से 11,714 मतों के अंतर से हार गए. मिश्र को 2009 और 2014 में पुरी में एक आसान जीत मिली थी. 1996 में उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर सीट जीती थी.

हार स्‍वीकार करते हुए पात्रा ने ट्विटर पर भगवान जगन्‍नाथ की तस्‍वीर शेयर की. उन्‍होंने कहा, “दोस्‍तों, मैं पुरी में करीब 11,000 वोटों से चुनाव हार गया हूं… लेकिन मैं इस अवसर पर अपने स्‍वामी भगवान जगन्‍नाथ का धन्‍यवाद करता हूं जिन्‍होंने मुझे अपने पवित्र धाम से चुनाव लड़ने का मौका दिया. मैं बीजेपी पुरी के सभी कार्यकर्ताओं और सबसे ज्‍यादा पुरी के लोगों का उनके अप्रतिम प्रेम के लिए धन्‍यवाद करता हूं.”

प्रचार में झोंक दी थी पूरी ताकत

संबित पात्रा टेलीविजन की बहसों का प्रमुख चेहरा हैं. उनकी पहचान बीजेपी के सबसे तेजतर्रार प्रवक्‍ताओं में से एक माने जाते हैं. पुरी में चुनाव प्रचार के दौरान पात्रा कभी गरीब की झोंपड़ी में चूल्‍हे पर पकी रोटी खाते दिखे, कभी युवाओं संग कैरम खेलते नजर आए. ओडिशा में जब तूफान फोनी आया तो राहत-बचाव कार्यों में भी पात्रा बढ़-चढ़कर हिस्‍सा लेते रहे. हालांकि चुनावों में उन्‍हें शायद ही इसका फायदा मिला.

पात्रा की ट्विटर टाइमलाइन पर उनके चुनाव प्रचार की तस्‍वीरें हैं. मंदिर-मंदिर घूमते पात्रा कभी बच्‍चों को गोद में खिलाते, कभी महिलाओं के पैर छूकर आशीर्वाद लेते.

प्रचार के दौरान पात्रा ने एक वीडियो ट्वीट किया था जिसमें वह एक बुजुर्ग महिला के घर खाना खाते दिख रहे थे. इस वीडियो पर पात्रा को खूब ट्रोल किया गया था. आलोचकों का कहना था कि अगर केंद्र की एनडीए सरकार की ‘उज्‍ज्‍वला योजना’ इतनी सफल रही तो फिर इस महिला के यहां एलपीजी सिलेंडर क्‍यों नहीं पहुंचा.

ये भी पढ़ें

‘अगर मोदी लहर हैं तो मैं सुनामी’, जीत के बाद बोले AAP के इकलौते सांसद भगवंत मान

सेल्फी लेने पर जिसका मजाक उड़ाया उसी ने सिंधिया को बुरी तरह हराया