संदीप दीक्षित ने दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको को लिखी चिट्ठी, ठहराया मां की मौत का जिम्मेदार

संदीप दीक्षित ने कहा कि 'मैंने एक चिट्ठी पीसी चाको को निजी तौर पर लिखी, अगर चाको इसको लीक करना चाहते हैं तो करें.'

दिवंगत शीला दीक्षित के बेटे और पूर्व सांसद संदीप दीक्षित ने दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको को एक चिट्ठी लिखी है. संदीप की चिट्ठी के बाद दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष का फैसला कल तक टल गया है. संदीप ने ये भी साफ किया कि उन्होंने कांग्रेस अध्य्क्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी नहीं लिखी है. लेकिन यहां ये भी बता दें कि संदीप, सोनिया गांधी से पिछले दिनों 3-4 बार मुलाकात कर चुके हैं.

संदीप ने मीडिया से कहा, “मैंने एक चिट्ठी पीसी चाको को लिखी निजी तौर पर, अगर चाको इसको लीक करना चाहते हैं तो करें. वो जानें मुझे इस पर कुछ नहीं कहना.”

‘पीसी चाको ने मेरी मां को परेशान किया’
सूत्रों के मुताबिक, संदीप दीक्षित ने अपने पत्र में लिखा है कि दिल्ली के प्रभारी पीसी चाको ने मेरी मां शीला दीक्षित को आखिरी दिनों में परेशान किया और अगर उन्हें मानसिक रूप प्रताड़ित नहीं किया होता तो आज वो हमारे साथ होतीं!

संदीप ने भी लिखा है कि सिर्फ पार्टी की बैठक में ही नहीं बल्कि सार्वजनिक मंचों पर भी शीला दीक्षित को प्रताड़ित किया गया.

संदीप के समर्थन में दिल्ली के 40 नेताओं ने भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है कि पीसी चाको ने शीला दीक्षित के आखिरी दिनों में उन्हें बहुत परेशान किया और सार्वजनिक मंचों से उनको दिक्कत पहुंचाई. पीसी चाको के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए.

‘दिल्ली में मेरा कोई समर्थक नहीं’
संदीप ने कहा, “मेरे कौन समर्थक हैं भाई. मेरा दिल्ली में कोई समर्थक नहीं है. मेरा दिल्ली की कांग्रेस से कोई लेना-देना नहीं है. मैं दिल्ली की पॉलिटिक्स से 5 साल से बाहर हूं. मेरा कौन समर्थक है?”

TV9 भारतवर्ष से बात करते हुए संदीप दीक्षित ने कहा कि मुझे चिट्ठी मिली और चिट्ठी मिलने के बाद मुझे लगा कि ये बातें कांग्रेस अध्यक्ष के संज्ञान में लाई जाएं. इसलिए मैंने पत्र भेजा. उसके डिटेल्स मैं नहीं बताऊंगा.

ये वाद-विवाद अच्छा नहीं है. दो महीने बाद दिल्ली में इलेक्शन आ रहा है. और जो लोग ये अलगाव क्रिएट कर रहे हैं उनको सोचना चाहिए कि ये ठीक है क्या? चुनाव आने वाला है सबको मिलकर काम करना चाहिए.”

दिल्ली कांग्रेस के नए अध्यक्ष का नाम जल्द ही घोषित होने वाला है. और अन्य नेताओं के साथ-साथ संदीप दीक्षित का भी नाम इसके लिए चल रहा है.

ये भी पढ़ें-

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप हों या कोई और, कश्मीर मसले में न दें दखल: अमित शाह

AMU के पूर्व कुलपति का बयान- मुस्लिमों को राम मंदिर के लिए हिंदू भाइयों को सौंप देनी चाहिए जमीन

हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019: कांग्रेस ने जारी किया घोषणा पत्र, महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण देने का वादा