हमारे देश के सारे गवर्नर होते हैं सरकार के चमचे, सत्यपाल मलिक भी वही- संजय निरुपम

कांग्रेस नेता संजय निरुपम विवादित बयानों के लिए अक्सर चर्चा में रहते हैं. अब उनके निशाने पर गवर्नर सत्यपाल मलिक हैं.

लोकसभा चुनाव खत्म होने की तरफ है लेकिन कांग्रेस नेताओं की बदजुबानी खत्म होने का नाम नहीं ले रही. सैम पित्रोदा ने सिख दंगों पर जो कहा उसे बीजेपी ने कैच करके खूब उछाला मगर कोई सबक ना सीखते हुए अब कांग्रेस नेता संजय निरुपम भी आउट ऑफ लाइन चले गए.

निरुपम ने देश के सभी गवर्नरों को चमचा कहा है. उनका ये बयान जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के एक बयान की प्रतिक्रिया में आया है. मलिक ने राजीव गांधी पर टिप्पणी की थी जिससे भड़के निरुपम ने कहा कि राजीव गांधी को बोफोर्स मामले में कोर्ट ने क्लीन चिट दी है. सरकार के वरिष्‍ठ मंत्री अरुण जेटली भी उन लोगों में शामिल हैं जिन्‍होंने राजीव गांधी को क्‍लीन चिट दी थी.

निरुपम ने सत्यपाल मलिक के अलावा पीएम मोदी को भी आड़े हाथों लिया. निरुपम ने कहा कि जब प्रधानमंत्री मोदी राजीव गांधी को ‘भ्रष्‍टाचारी नंबर 1 ‘ कहते हुए इतना कुछ कहते हैं जैसे फिर बोलने का मौका नहीं मिलनेवाला. ऐसा लग रहा है कि सत्‍यपाल मलिक मोदी जी की चापलूसी कर रहे हैं, चमचागिरी कर रहे हैं ताकि उनकी कुर्सी बची रहे. गवर्नर को अपनी गरिमा का ख्‍याल रखना चाहिए.

दरअसल  गुरुवार को जम्‍मू कश्‍मीर के राज्‍यपाल सत्‍यपाल मलिक ने राजीव गांधी पर लगे भ्रष्‍टाचार के आरोपों पर कहा था कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी शुरू में भ्रष्ट नहीं थे, लेकिन कुछ लोगों के प्रभाव में आकर वो बोफोर्स भ्रष्टाचार में शामिल हो गए. मलिक ने कहा था कि बोफोर्स भ्रष्टाचार मामले के मद्देनजर उन्होंने और पीडीपी संस्थापक मुफ्ती मोहम्मद सईद ने राज्यसभा की सदस्यता छोड़ दी थी और जन मोर्चा का गठन किया था.

वैसे निरुपम पहले भी विवादित बयान देते रहे हैं और ये उनका पहला मौका नहीं है. हालिया चुनाव में वाराणसी पहुंचे निरुपम ने नरेंद्र मोदी की तुलना औरंगजेब से कर दी थी. उन्होंने कहा था कि  ‘मोदी जी के इशारे पर सैकड़ों की संख्या में मंदिरों को तुड़वाया गया. ठीक उसी तरह मोदी जी के इशारे पर मंदिर में बाबा विश्वनाथ के दर्शन के लिए 550 रुपये का फाइन लगाया गया है.

(Visited 326 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *