इंदिरा गांधी-करीम लाला मुलाकात का दावा कर घिरे संजय राउत, फडनवीस ने कांग्रेस से पूछे सवाल

फडनवीस ने कहा कि संजय राउत ने बड़ा खुलासा किया है. इस खुलासे से कई सवाल निकलते हैं. इंदिरा गांधी मुंबई क्यों आती थीं? क्या कांग्रेस अंडरवर्ल्ड के सहारे चुनाव जीतती थी?

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के अंडरवर्ल्‍ड डॉन करीम लाला से मिलने के दावे पर शिवसेना सांसद संजय राउत घिरते जा रहे हैं. सामना के मुखपत्र के संपादक संजय राउत के एक इवेंट में किए गए दावे पर भले ही सफाई दी हो या बयान वापस ले लिया हो, लेकिन उनसे सवाल किए जाने जारी है.

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस ने उनसे पूछा कि इंदिरा गांधी पर इतने बड़े आरोप के बाद कांग्रेस के शीर्ष नेता अभी तक मौन क्यों हैं? उन्होंने पूछा कि छोटा शकील या दाऊद इब्राहिम मुंबई का कमिश्नर तय करते थे. वे लोग मंत्रालय में कौन बैठे या कौन नहीं ये भी तय करते थे तो क्या राजनीति के अपराधीकरण की शुरुआत कांग्रेस के कार्यकाल में हुई ?

फडनवीस ने कहा कि संजय राउत ने बड़ा खुलासा किया है. इस खुलासे से कई सवाल निकलते हैं. इंदिरा गांधी मुंबई क्यों आती थीं? क्या कांग्रेस अंडरवर्ल्ड के सहारे चुनाव जीतती थी? क्या कांग्रेस को अंडरवर्ल्ड की फंडिंग थी और क्या कांग्रेस पार्टी को चुनाव जीतने के लिए मसल पॉवर की जरूरत पड़ती थी? जैसे कई सवाल फड़नवीस ने सामने रखे.

Fadnavis asked questions to Congress, इंदिरा गांधी-करीम लाला मुलाकात का दावा कर घिरे संजय राउत, फडनवीस ने कांग्रेस से पूछे सवाल

बीजेपी नेता ने इन सवालों के साथ कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को इनका जवाब देना चाहिए. उन्होंने पूछा कि क्या कांग्रेस ने मुंबई पर हमला करने वाले लोगों का साथ दिया था. कांग्रेस इस पर आधिकारिक खुलासा क्यों नहीं करती.

वहीं केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने राउत के बयान पर कहा कि सच्चाई सामने आ जाती है. दाऊद इब्राहिम को भगाया किसने? कांग्रेस ने. सच बात अब सामने आ जाती है. अब कांग्रेस कह रही है कि धार्मिक प्रतिनिधि के तौर पर करीम से मिलती थी. इससे साफ होता है कि कांग्रेस घोर कम्यूनल पार्टी है.

संदीप दीक्षित ने उठाए बीजेपी पर सवाल

दूसरी ओर कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने कहा कि संजय राउत ने इतनी गंभीर बात बोली है. उन्हें इसका सबूत देना चाहिए या बयान वापस लेना चाहिए. वहीं बीजेपी को लेकर दीक्षित ने कहा कि अंडरवर्ल्ड कनेक्शन वाले शख्स रियाज भाटी की बहुत सी तस्वीरें बीजेपी नेताओं के साथ हैं. दीक्षित ने कहा कि जहां तक मैंने देखा है ट्विटर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भी उसकी तस्वीरें हैं. बीजेपी इस पर तो खुलासा करे. देवेंद्र फड़नवीस के बारे में उन्होंने कहा कि उनकी सत्ता चली गई है, इसलिए खिसियाहट में ऐसा बोल रहे हैं.

कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने इस बारे में ट्वीट किया कि कभी-कभी अधकचरा ज्ञान वीभत्स हो जाता है. शिवसेना के मि. शायर ने कहा है कि माफिया सरगना करीम लाला पठान समुदाय का नेता था. चौंकिएगा मत अगर कल ये कहें कि दाऊद इब्राहिम कोंकणी मसलमानों का नेता है.


बेहतर होगा कि शिवसेना के मि. शायर दूसरों की हल्की-फुल्की शायरी सुनाकर महाराष्ट्र का मनोरंजन करते रहें. पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी के खिलाफ दुष्प्रचार करेंगे तो उन्हें पछताना पड़ेगा. कल उन्होंने इंदिराजी के बारे में जो बयान दिया है वो वापस ले लें.

संजय राउत ने वापस लिया बयान

मामले के तूल पकड़ने पर शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि कहा कि अगर मेरी बात से किसी की भावना को ठेस पहुंची है तो मैं अपना बयान वापस लेता हूं. उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि करीम लाला पठानों के नेता थे, उनसे कई लोग मिलने आते थे. इंदिरा के कथित अपमान पर राउत ने कहा कि ‘विपक्ष में होते हुए मैंने जितना सम्‍मान गांधी परिवार के लिए दिखाया, उतना आजतक किसी ने नहीं दिखाया.’

वहीं शिवाजी के वंशज को लेकर संजय राउत के बयान पर बीजेपी ने लिखित शिकायत की है. बीजेपी विधायक राम कदम ने घाटकोपर पुलिस स्टेशन में लिखित शिकायत करके संजय राउत पर मामला दर्ज करने की मांग की है. राउत ने शिवाजी के वंशज उदयनराजे भोसले से उनके छत्रपति शिवाजी महाराज का वंशज होने का सबूत मांगा था.

ये भी पढ़ें –

‘पठानों के लीडर थे करीम लाला, कई नेता मिलने जाते थे’, इंदिरा गांधी से मुलाकात के दावे पर राउत की सफाई

शिवसेना सांसद संजय राउत का बड़ा बयान- मैं दाऊद से मिला था, करीम लाला से मिलती थीं इंदिरा गांधी