सत्‍यपाल मलिक को अब तक है कश्‍मीर का ‘हैंगओवर’, जानिए क्‍यों?

मलिक ने अपने भाषण में कहा, "मैं तीन हफ्ते पहले गोवा आया हूं. मैं कश्मीर से आया हूं. मैं अभी भी कश्मीर हैंगओवर से गुजर रहा हूं."

Kashmir Hangover of Satya Pal Malik

गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने गुरुवार को कहा कि उनके दिल-दिमाग पर अभी भी कश्मीर छाया हुआ है. गोवा से पहले सत्यपाल मलिक जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल थे. इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया के 50वें संस्करण के समापन समारोह पर मलिक ने कहा कि इस साल अगस्त में अनुच्छेद 370 को रद्द करने के बाद से जम्मू-कश्मीर में एक भी गोली नहीं चली है.

सत्यपाल मलिक वहां अपने कार्यकाल के दौरान ऐतिहासिक राजनीतिक और संवैधानिक परिवर्तनों के साक्षी रहे हैं. मलिक ने फेस्टिवल के समापन समारोह के दौरान अपने भाषण में कहा, “मैं तीन हफ्ते पहले गोवा आया हूं. मैं कश्मीर से आया हूं. मैं अभी भी कश्मीर हैंगओवर से गुजर रहा हूं.”

इस फेस्टिवल का आयोजन केंद्रीय सूचना व प्रसारण मंत्रालय व गोवा सरकार ने साथ मिलकर किया. मलिक ने कहा कि केंद्र सरकार के अनुच्छेद 370 को रद्द करने के निर्णय से पहले मुठभेड़ की वजह से हर हफ्ते बड़ी संख्या में लोग मारे जाते थे.

‘370 खत्‍म, एक भी गोली नहीं चलानी पड़ी’

मलिक ने कहा, “अब, अनुच्छेद 370 के रद्द किए जाने के बाद भी, भारतीय सेना को एक भी गोली चलाने की जरूरत नहीं पड़ी.” उन्होंने कहा कि अक्सर नौकरशाह उन्हें डराते थे कि विशेष दर्जे को हटाने पर कम से कम 1000 लोग मारे जा सकते हैं.

मलिक के जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल रहने के दौरान केंद्र सरकार ने अनुच्छेद 370 को रद्द किया और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेश-जम्मू-कश्मीर व लद्दाख में विभाजित कर दिया. (IANS)

ये भी पढ़ें

क्‍या है कश्‍मीर में ‘इजरायली मॉडल’ अपनाने का प्रस्‍ताव?

‘सीरिया से बदतर था कश्‍मीर का हाल, मरना या भागना ही विकल्‍प था’

Related Posts