हमारी सरकार ने राष्ट्र निर्माण के मूल में वीर सावरकर के राष्ट्रवाद के संस्कार को रखा: PM Modi

पीएम ने कहा कि कांग्रेस में अब नयी ट्रेनिंग शुरू हो रही है. उस संगठन में राष्ट्रवाद का पाठ पढ़ाया जायेगा. इसपर रोया जाए या हंसा जाए. आज की कांग्रेस आज़ादी वाली कांग्रेस नहीं है.

‘हमारी सरकार ने राष्ट्र निर्माण के मूल में वीर सावरकर के राष्ट्रवाद के संस्कार को रखा है.’ महाराष्ट्र के अकोला में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने यह बात कही. ज़ाहिर है महाराष्ट्र बीजेपी ने विधानसभा चुनाव से पहले अपने घोषणा पत्र में सावरकर को भारत रत्न देने की बात लिखी है.

पीएम मोदी ने विपक्षी पार्टी कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि एक तरफ हमारी पार्टी है जो उस संस्कारों को साथ लेकर चल रही है. वहीं, दूसरी तरफ वे लोग हैं, जिन्होंने बाबा साहेब का कदम-कदम पर अपमान किया, उन्हें दशकों तक भारत रत्न से दूर रखा. ये वही लोग हैं जो वीर सावरकर का भी अपमान करते हैं.

उन्होंने कहा कि ये एक भारत, श्रेष्ठ भारत नहीं चाहते बल्कि इनको बंटा हुआ भारत चाहिए, बिखरा हुआ भारत चाहिए, एक दूसरे के खिलाफ लड़ता हुआ भारत चाहिए.

पीएम मोदी ने कहा कि एक समय था जब महराष्ट्र में आए दिन बम धमाके होते थे, मुंबई दहल जाता था. कभी ट्रेन में, कभी बस में, कभी बड़ी-बड़ी इमारतों में, आए दिन बम-गोले, आए दिन हिंसा, आतंकवाद. उस समय जिन लोगों पर सवाल उठे बम धमाकों के मास्टरमाइंड बचकर निकल गए… दुश्मान देशों में जाकर बसेरा बना लिया. आज हिन्दुस्तान उन लोगों को पूछता है आखिर ये कैसे हुए… ये देश पूछता है इतने बड़े गुनाहगार कैसे भाग गए.

पीएम मोदी ने कहा, ‘महाराष्ट्र का कोई जिला ऐसा नहीं होगा जहां के वीर सैनिकों ने जम्मू-कश्मीर की शांति के लिए त्याग नहीं किया होगा. महाराष्ट्र के वीर जवान के दिल में यही बात रही होगी कि मैं छत्रपति शिवाजी महाराज की धरती से आया हूं, मैं देश पर आंच भी नहीं आने दूंगा.’

पीएम मोदी ने कहा, ‘हमें गर्व है महाराष्ट्र के उन सपूतों पर जिन्होंने जम्मू-कश्मीर के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया और आज राजनीति के स्वार्थ और अपने परिवार में डूबे हुए ये लोग कह रहे हैं कि महाराष्ट्र का जम्मू कश्मीर से क्या लेना? डूब मरो, डूब मरो.’

उन्होंने आगे कहा, ‘मैं हैरान हूं कि छत्रपति शिवाजी की धरती पर आजकल राजनीतिक स्वार्थ के कारण ऐसी आवाजें उठाई जा रही हैं और इनकी बेशर्मी देखिए कि ये खुलेआम कह रहे हैं कि महाराष्ट्र के चुनाव से अनुच्छेद 370 का क्या लेना देना? महाराष्ट्र से जम्मू कश्मीर का क्या संबंध?’

पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रहित और राष्ट्र रक्षा के मुद्दों पर हम सभी का एक ही सुर होना चाहिए. दुनिया को एक ही आवाज सुनाई देनी चाहिए. लेकिन हर बात में राजनीतिक रोटियां सेकनें वाले ये नेता, देशहित, राष्ट्रहित की इतनी सरल बात भी मानने को तैयार नहीं हैं.

पीएम ने कहा कि कांग्रेस में अब नयी ट्रेनिंग शुरू हो रही है. उस संगठन में राष्ट्रवाद का पाठ पढ़ाया जायेगा. इसपर रोया जाए या हंसा जाए. आज की कांग्रेस आज़ादी वाली कांग्रेस नहीं है.