SBI ने बंद किए 420 ब्रांच और 768 ATM, बैंकों पर तेजी से लग रहे ताले

एक रिपोर्ट के मुताबिक टॉप 10 सरकारी बैंकों ने पिछले एक साल में 600 ब्रांच और 5500 ATM बंद कर दिए हैं.

देश की अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन की दरकार है. सरकारी बैंकों पर तेजी से ताले लग रहे हैं. साल भर में भारत के सबसे बड़े बैंक State Bank of India ने 420 ब्रांच और 768 ATM बंद कर दिए.

अपने खर्च में कमी लाने के लिए SBI को ऐसा करना पड़ा. इसकी खास वजह ये भी थी कि अब ज्यादातर कस्टमर बैंकिंग से जुड़े कामों के लिए नेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग, मनी ट्रांसफर एप और वॉलेट की ओर रुख कर रहे हैं.

एक रिपोर्ट के मुताबिक टॉप 10 सरकारी बैंकों ने पिछले एक साल में 600 ब्रांच और 5500 ATM बंद कर दिए हैं. बैंकों ने ये फैसला बैलेंस शीट में खर्चे कम करने के लिए लिया है.

SBI ने जून 2018-2019 के बीच 420 ब्रांच और 768 ATM बंद कर दिए, वहीं Bank of Baroda, विजया बैंक और देना बैंक ने करीब 40 ब्रांच और 274 ATM कर दिए. इसके अलावा ब्रांच और ATM में कटौती करने वालों में पंजाब नेशनल बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, केनरा बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन ओवरसीज बैंक, यूनियन बैंक और इलाहाबाद बैंक के नाम भी शामिल रहे.

इस दौरान इंडियन बैंक इकलौता ऐसा बैंक है, जिसने अपने ATM और ब्रांच नेटवर्क में बढ़ोतरी की. बाकी 10 में से नौ बैंकों ने ATM और 6 बैंकों ने ब्रांच में कमी कर दी.

ये भी पढ़ें- अगले महीने देश में आएगा पहला राफेल, जानिए पाकिस्तानी F-16 का कैसे देगा मुंहतोड़ जवाब?