कैंसिल फ्लाइट्स का पैसा कब होगा वापस, सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान मांगी जानकारी

सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने याचिकाकर्ता से कहा कि आपके हलफनामे में कहा गया है कि यात्री क्रेडिट वाउचर किसी और को ट्रांसफर भी कर सकता है, ऐसे में एजेंट यात्री से क्रेडिट वाउचर लेकर अपने पैसों की वसूली कर सकते हैं.

लॉकडाउन (Lock Down) के दौरान कैंसल फ्लाइट के टिकट के पैसे यात्रियों को लौटाने के मामले पर आज सुप्रीम कोर्ट में फिर सुनवाई हुई. इस दौरान कोर्ट ने कंपनियों से पूछा कि कैंसिल फ्लाइट्स (Cancel Flights) का पैसा यात्रियों को कब मिलेगा. वहीं सॉलिसिटर जनरल ने कोर्ट से कहा कि, वह सिर्फ यात्रियों को लेकर चिंतित हैं. अगर किसी ट्रैवल एजेंट ने एयरलाइंस के पास एडवांस में पैसे जमा कराए हों, तो उस पर उन्हें कुछ नहीं कहना, टिकट (Ticket) की ‘थोक खरीद’ नहीं की जा सकती है, यह एयरलाइंस और ट्रैवल एजेंट के बीच एक अनुबंध हैं, डीजीसीए ( DGCA) का इससे कोई लेना देना नहीं है.

इसके साथ ही सॉलिसिटर जनरल (solicitor General) ने कहा कि क्रेडिट शेल स्कीम का लाभ ट्रैवेल एजेंट को नहीं मिल सकता है, वह ट्रैवल एजेंटों की निगरानी नहीं करते है. सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता से कहा कि आपके हलफनामे में कहा गया है कि यात्री क्रेडिट वाउचर किसी और को ट्रांसफर भी कर सकता है, ऐसे में एजेंट यात्री से क्रेडिट वाउचर लेकर अपने पैसों की वसूली कर सकते हैं, यह समाधान सही लगता है.

ये भी पढ़िए- लॉकडाउन के दौरान रद्द हुई फ्लाइट के टिकट का ब्याज के साथ मिलेगा पैसा

यात्रियों को कब वापस मिलेगा कैंसिल फ्लाइट्स का पैसा -SC

जस्टिस शाह ने पूछा कि अगर ट्रैवल एजेंट्स को पैसा वापस किया जाता है, तो यात्री को वह कब वापस मिलेगा. इसके जवाब में ट्रैवल एजेंट फेडरेशन के वकील ने कहा कि सीएआर (CAR) ट्रैवल एजेंटों को रेगुलेट करती है, मुझे कोई दिक्कत नहीं है अगर ट्रैवल एजेंटों के खाते में जमा राशि आती है, और वह ट्रांसफर किए जा सकते है.

गो एयर ने कोर्ट से रिफंड के लिए मांगा एक साल का समय

वहीं गो एयर (Go Air) के वकील दत्रा ने कहा कि उनकी माली हालत सही नहीं है, वह भी रिफंड करना चाहते हैं, लेकिन  ईंधन की कीमतें 78% बढ़ गई हैं, आरबीआई (RBI) से उनको कोई राहत नहीं मिली है, वह अनिवार्य सेवा नहीं कर रहे है, इसलिए वह 6 महीने में भुगतान नहीं कर सकते है. कंपनी ने कहा कि क्रेडिट शेल की अवधि 31 मार्च तक रखना अव्यवहारिक है, इसलिए उन्हें रिफंड के लिए 30 सितंबर 2021 तक का समय दिया जाए, तब तक अगर यात्री टिकट के बदले टिकट नहीं लेता तो हवह पैसे लौटा देंगे.

ये भी पढ़िए- लॉकडाउन में रद्द हुई फ्लाइट टिकट के रिफंड की मांग, अब 23 सितंबर को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

वहीं इस बात पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने गो एयर से कहा कि यह आपकी कंपनी की दिक्कत है, इसके लिए यात्रियों को परेशान क्यों होना चाहिए.

Related Posts