CAA के खिलाफ याचिका पर तुरंत सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, CJI बोले- पहले हिंसा बंद हो

सीजेआई ने कहा कि पहली बार है जब कोई देश के कानून को संवैधानिक करार देने की मांग कर रहा है, जबकि हमारा काम उसकी वैधता जांचना है.
SC says Citizenship Amendment Act, CAA के खिलाफ याचिका पर तुरंत सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, CJI बोले- पहले हिंसा बंद हो

नागरिक संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ दाखिल याचिका पर तुरंत सुनवाई करने से सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को इनकार कर दिया. मुख्य न्यायाधीश (CJI) एसए बोबडे के नेतृत्व वाली बेंच ने कहा कि जब हिंसा रुकेगी तब उन पर सुनवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि देश अभी नाजुक दौर से गुजर रहा है.

नागरिकता कानून के खिलाफ दाखिल याचिकाओं पर हैरत जताते हुए सीजेआई ने कहा कि पहली बार है जब कोई देश के कानून को संवैधानिक करार देने की मांग कर रहा है, जबकि हमारा काम उसकी वैधता जांचना है. इस बेंच में सीजेआई के साथ जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस सूर्यकांत भी शामिल थे.

उन्होंने कहा कि कोर्ट का काम यह है कि वह किसी कानून की वैधता की जांच करे. जब हिंसा का दौर थम जाएगा, तब हम कानून की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं की सुनवाई करेंगे. सुप्रीम कोर्ट ने देश भर में नागरिकता कानून (CAA) को लेकर हो रही हिंसा पर चिंता भी जताई.

सुप्रीम कोर्ट में नागरिकता कानून को वैध घोषित करने को लेकर याचिका दाखिल करने वाले वकील विनीत ढांडा ने उसकी जल्द सुनवाई की मांग की थी. उन्होंने मांग की थी कि अफवाहें फैलाने के लिए राजनीतिक-सामाजिक नेताओं और कार्यकर्ताओं समेत छात्रों और मीडिया पर भी कार्रवाई की जाए. ढांडा ने कोर्ट से मांग की थी कि सभी राज्यों को यह निर्देश दिए जाएं कि वे नागरिकता कानून को लागू करें.

नागरिकता कानून के खिलाफ कई याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के लिए लंबित पड़ी हैं. विभिन राजनीतिक दलों, सामाजिक संगठनों और निजी स्तर पर भी लोगों ने ऐसी याचिकाएं दाखिल की हुई हैं. कोर्ट ने उन्हें स्वीकार तो किया है, लेकिन सुनवाई कब करेगी इसको लेकर कोई बात सामने नहीं आई है.

ये भी पढ़ें –

जेएनयू हिंसा के खिलाफ प्रदर्शन : मुंबई के बाद मैसूर में दिखा कश्मीर की आजादी का पोस्टर

आज देश मना रहा है 16वां प्रवासी भारतीय दिवस, पढ़िए- इससे जुड़ी पूरी कहानी

Related Posts