आम्रपाली ग्रुप को बड़ा झटका, सुप्रीम कोर्ट ने चेयरमैन और 2 निदेशकों को पुलिस हिरासत में भेजा

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को धोखाधड़ी से जुड़े एक आपराधिक मामले में आम्रपाली समूह के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक (सीएमडी) अनिल कुमार शर्मा और दो अन्य निदेशक शिव प्रिय व अजय कुमार की गिरफ्तारी की अनुमति दी.

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को धोखाधड़ी से जुड़े एक आपराधिक मामले में आम्रपाली समूह के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक (सीएमडी) अनिल कुमार शर्मा और दो अन्य निदेशक शिव प्रिय व अजय कुमार की गिरफ्तारी की अनुमति दी. जस्टिस अरुण मिश्रा और जस्टिस उदय उमेश ललित की खंडपीठ ने भी दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) को शर्मा और दो अन्य निदेशकों से पूछताछ करने की अनुमति दी. इन सभी के उपर निवेशकों से पैसे लेने के बावजूद उन्हें उनके फ्लैट नहीं देने और वित्तीय अनियमितता के मामले दर्ज हैं.

सुप्रीम कोर्ट आम्रपाली समूह की विभिन्न परियोजनाओं में करीब 42,000 फ्लैट बुक कराने वाले खरीदारों को कब्जा दिलाने के लिए खरीदारों की याचिकाओं पर सुनवाई कर रहा है. इस समूह के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक तथा दो निदेशक शीर्ष अदालत के निर्देश पर अभी तक यूपी पुलिस की हिरासत में थे. सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने पाया कि घर खरीदने वालों को अभी तक फ्लैट नहीं मिले हैं. अदालत ने कहा कि हमने उत्तर प्रदेश पुलिस की निगरानी में एक होटल में हिरासत में रखे गए किसी भी निदेशक को गिरफ्तार करने से किसी एजेंसी को कभी नहीं रोका.

मामले की अगली सुनवाई 26 मार्च को होगी. फोरेंसिक ऑडिटर्स आम्रपाली के घर खरीदने वाले लोगों के पैसों की जानकारी को ट्रैक कर रहे हैं. ये कंपनियां और लोग आम्रपाली के साथ आर्थिक लेनदेन में शामिल रहे हैं. पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली ग्रुप को 200 करोड़ रुपये 31 मार्च तक जमा कराने का आदेश दिया है.