अनलॉक-4: आंध्र प्रदेश-हरियाणा समेत इन राज्यों में खुले स्कूल, जानें क्या हैं नियम

नियम के मुताबिक कंटेनमेंट जोन में रहने वाले छात्र (Students) और शिक्षकों को स्कूल जाने की इजाजत नहीं है. सिर्फ पचास प्रतिशत टीचिंग (Teaching) और नॉन टीचिंग स्टाफ के साथ ही स्कूलों को खोलने की अनुमति दी गई है,

केंद्र सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के साथ अनलॉक-4 के तहत कुछ राज्यों में कक्षा 9 से 12 तक के छात्रों के लिए स्कूल एक बार फिर से खोल दिए गए हैं. कोरोना महामारी की वजह से करीब छह महीने से स्कूल बंद थे. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अनलॉक-4 के तहत स्कूलों को 21 सितंबर से खोलने के दिशा-निर्देश जारी किए थे, इसके साथ ही आखिरी फैसला राज्यों पर छोड़ा गया था.

स्कूलों को फिर से खोलने के लिए कुछ नए नियम भी बनाए गए हैं. जिसके मुताबिक कंटेनमेंट जोन में रहने वाले छात्र और शिक्षकों को स्कूल जाने की इजाजत नहीं है. सिर्फ पचास प्रतिशत टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ के साथ ही स्कूलों को खोलने की अनुमति दी गई है, कक्षा 9 से 12 तक के छात्र अपनी इच्छा से ही स्कूल जा सकेंगे.

स्कूल खुलने के बाद भी चलती रहेंगी ऑनलाइन कक्षाएं

स्कूल जाने वाले छात्रों के अपने अभिभावकों की हस्ताक्षर की हुई परमिशन स्लिप साथ लेकर जाना होगा. इसके साथ ही स्कूल खुलने के बाद भी ऑनलाइन कक्षाएं जारी रहेंगी, जो बच्चे स्कूल नहीं जाना चाहते, वह ऑनलाइन पढ़ाई कर सकते हैं. स्कूल गेट पर ही छात्रों, शिक्षकों और अन्य स्टाफ का टेंपरेचर चेक किया जाएगा, सभी को सैनिटाइजर-हाथ धोने और मास्क पहनने का खास ख्याल रखना होगा.

कई राज्यों में आज भी नहीं खुले स्कूल

कोरोना महामारी की वजह से कई राज्यों ने फिलहाल स्कूल नहीं खोलने का फैसला लिया है. दिल्ली में भी 5 अक्टूबर तक स्कूल नहीं खोले जाएंगे, इससे पहले सीनियर छात्रों को उनके अभिभावकों की इजाजत के साथ स्कूल जाने की इजाजत दी गई थी.

न्यूज एजेंसी एएनआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक कर्नाटक ने भी यू-टर्न लेते हुए फिलहाल स्कूल-कॉलेज खोलने के फैसले पर रोक लगा दी है. वहीं पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, गुजरात, केरल और उत्तराखंड के स्कूल भी 21 सितंबर को दोबारा नहीं खोले गए हैं. आंध्र प्रदेश सरकार ने माता-पिता से लिखित सहमति के बाद कक्षा 9 से 12 तक के छात्रों को शिक्षकों के गाइडेंस के लिए स्कूल जाने की इजाजत दी है. एक रिपोर्ट के मुताबिक 30 सितंबर तक नियमित कक्षाएं नहीं चलेंगी.

कुछ राज्यों में शर्तों के साथ खुले स्कूल

असम के सरकारी स्कूलों में 9 से 12 वीं कक्षा के छात्रों के लिए 15 दिनों के लिए कक्षाएं फिर से शुरू होंगी, जिसके बाद सरकार एक समीक्षा बैठक करेगी, वहीं निजी स्कूलों को खुद ही फैसला करना होगा कि वह स्कूल खोलेंगे या नहीं. कक्षा 9 से 12 तक के छात्रों के लिए हफ्ते में सिर्फ तीन दिन-सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को ही कक्षाएं चलेंगी, वहीं 10 और 11वीं कक्षा के छात्र मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को स्कूल जा सकेंगे.

हरियाणा में कक्षा 9 से 12 तक के छात्रों को स्वैच्छिक आधार पर टीचर्स के गाइडेंस के लिए स्कूल जाने की इजाजत दी गई है. सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को सभी टीचर्स के कोरोना मुक्त होने के लिए टेस्ट कराने का टास्क दिया गया है, इसके साथ उनके फोन में आरोग्य सेतु एप होना भी जरूरी होगा. छात्रों को भी मास्क लगाने, सैनिटाइजेशन और थर्मल स्क्रीनिंग का ध्यान रखना होगा.

हिमाचल प्रदेश में 9,10 और 11वीं कक्षा के छात्रों को स्कूल आने का विकल्प दिया गया है. वहीं जम्मू-कश्मीर में छात्रों को अपनी मर्जी से परिवार की इजाजत लेने के बाद स्कूल जाने का विकल्प दिया गया है. वहीं नगालैंड में स्कूल पचास प्रतिशत छात्रों को उनकी स्वेच्छा के आधार पर ही स्कूल में प्रवेश दे सकेंगे. मेघालय में 30 सितंबर तक कक्षाएं नहीं चलेंगी, लेकिन 9,10 और 11वीं के छात्र टीचर्स के गाइडेंस के लिए स्कूल जा सकते हैं.

Related Posts