Ayodhya Case: वो नक्शा जिसे मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने सुप्रीम कोर्ट में फाड़ा

नक्शा फाड़ने के बाद हिंदू महासभा के वकील विकास सिंह और मुस्लिम पक्षकार के वरिष्ठ वकील राजीव धवन में तीखी बहस हुई.
Rajiv Dhawan, Ayodhya Case: वो नक्शा जिसे मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने सुप्रीम कोर्ट में फाड़ा

सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को अयोध्या केस की आखिरी सुनवाई हुई. इस दौरान कोर्ट में जबरदस्त गहमागहमी देखने को मिली. मुस्लिम पक्षकार के वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने अयोध्या से संबंधित एक नक्शा ही फाड़ दिया. दरअसल, हिंदू पक्षकार के वकील विकास सिंह ने एक किताब का जिक्र करते हुए कोर्ट में नक्शा दिखाया था.

नक्शा फाड़ने के बाद हिंदू महासभा के वकील और धवन में तीखी बहस हुई. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई इससे नाराज हो गए. उन्होंने कहा कि अगर ऐसा ही चलता रहा तो जज उठकर चले जाएंगे. इसपर हिंदू महासभा के वकील ने कहा कि वह कोर्ट की काफी इज्जत करते हैं और उन्होंने कोर्ट की मर्यादा को भंग नहीं किया.

‘मीर बाकी ने नहीं ध्वस्त किया राम मंदिर’
बता दें कि वकील धवन ने पूर्व आईपीएस किशोर कुणाल की किताब ‘अयोध्या रीविजिट’ का एक नक्शा फाड़ा था. ये किताब साल 2016 में प्रकाशित हुई थी. किताब में लिखा है कि अयोध्या स्थित राम मंदिर को 1528 में मीर बाकी ने ध्वस्त नहीं किया था. बल्कि इसे 1660 में औरंगजेब के रिश्तेदार फिदाई खान ने तोड़ा था.

Rajiv Dhawan, Ayodhya Case: वो नक्शा जिसे मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने सुप्रीम कोर्ट में फाड़ा

हिंदू महासभा के वकील विकास सिंह ने कहा, “हम अयोध्या रीविजिट किताब कोर्ट के सामने रखना चाहते हैं जिसे रिटायर आईपीएस किशोर कुणाल ने लिखी है. इसमें राम मंदिर के पहले के अस्तित्व के बारे में लिखा है. किताब में हंस बेकर का कोट है. चैप्टर 24 में लिखा है कि जन्मस्थान के वायु कोण में रसोई थी. जन्मस्थान के दक्षिणी भाग में कुआं था. बैकर के किताब के हिसाब से जन्मस्थान ठीक बीच में था.”

सुप्रीम कोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला
बता दें कि अयोध्या के ऐतिहासिक जमीन विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी हो चुकी है. सीजेआई रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली 5 सदस्यीय संवैधानिक बेंच ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है.

सीजेआई गोगोई अगले महीने 17 नवंबर को रिटायर होने वाले हैं. माना जा रहा है कि गोगोई के रिटारमेंट से पहले इस ऐतिहासिक मामले में फैसला आ सकता है. सीजेआई ने बुधवार को साफ कर दिया कि आज ही शाम 5 बजे तक सुनवाई पूरी होगी लेकिन 1 घंटे पहले ही यानी 4 बजे सुनवाई पूरी कर ली गई.

ये भी पढ़ें-

सुप्रीम कोर्ट में Ayodhya Case की सुनवाई पूरी, जानें 40 दिनों की सुनवाई से जुड़ी हर अहम बात

वो भयावह मंजर, जब कारसेवकों पर चली थीं गोलियां

पटना में डेंगू की चपेट में आए 2 विधायक, नीतीश सरकार ने 8 IAS अधिकारियों का किया तबादला

Related Posts