कोरोना वैक्सीन के लिए सरकार को 80,000 करोड़ रुपये की जरूरत: CEO सीरम इंस्टीट्यूट

पुणे स्थित वैक्सीन बनाने वाली सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के सीईओ अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) ने कहा है कि वैक्सीन खरीदने और हर भारतीयों तक पहुंचाने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय को इतनी रकम की जरूरत पड़ेगी.

भारत समेत दुनियाभर के कई देश कोरोना महामारी से जूझ रहे हैं. कई देश Covid-19 वैक्सीन बनाने में जुटे हैं तो कई देश वैक्सीन का ह्यमन ट्रयल कर रहे हैं. इस बीच सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के सीईओ अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) ने शनिवार को एक ट्वीट किया है. इसमें उन्होंने कोविड-19 वैक्सीन की खरीद और वितरण को लेकर 80000 करोड़ रुपये खर्च होने के संकेत दिए हैं.

पुणे स्थित वैक्सीन बनाने वाली SII के सीईओ अदार पूनावाला ने ट्वीट में लिखा, ‘क्विक क्वेश्चन: क्या भारत सरकार के पास अगले एक साल में 80 हजार करोड़ रुपये उपलब्ध होंगे? क्योंकि वैक्सीन खरीदने और हर भारतीयों तक पहुंचाने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय को इतनी रकम की जरूरत पड़ेगी. हमारे पास सामने अब यह अगली चुनौती है जिससे हमें निपटना है.’

ये भी पढ़ें- अब कम दाम में होगा कोरोना का RT-PCR टेस्ट, IISc की डायग्नोस्टिक किट को मिली मंजूरी

अदार पूनावाला आगे लिखा, ‘मैंने इस सवाल को इसलिए उठाया है कि हमें एक प्लान और भारत व दुनिया में वैक्सीन निर्माताओं का मार्गदर्शन करने की जरूरत है.’

इससे पहले अदार पूनावाला ने कहा था कि मीजल्स या रोटावायरस (Rotavirus) की तरह कोरोनावायरस में भी दो डोज की जरूरत होगी और पूरी दुनिया के लिए करीब 15 अरब डोज का इंतजाम करना होगा.

बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने 5 अंतरराष्ट्रीय दवा कंपनियों के साथ करार किया हुआ है, इन कंपनियों में एस्ट्राजेनेका (AstraZeneca) और नोवावैक्स (Novavax) भी शामिल हैं. सीरम इंस्टीट्यूट एक कोरोनावायरस वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) विकसित करने में लगा है, जिसकी 1 अरब डोज तैयार की जानी हैं. बताया गया है कि इसमें से 50% भारत के लिए होंगी.

ये भी पढ़ें- कोरोना के नकली टीके के साथ गिरफ्तार, फॉर्मूला पूछने बर बोला- ‘टॉप सीक्रेट’

Related Posts