भारत में मार्च तक आ सकती है कोरोना की वैक्सीन-सीरम इंस्टीट्यूट के अधिकारी का बयान

डॉ. सुरेश जाधव ने कहा कि अगर रेग्युलेटर्स जल्दी अप्रूव (Approve) कर देते हैं, तो मार्च 2021 तक भारत को भी कोरोना की वैक्सीन (Covid Vaccine) मिल सकती है. कई कंपनियां इस पर तेजी से काम कर रही हैं.

भारत (India) को मार्च 2021 तक कोरोनावायरस की वैक्सीन (Corona Vaccine) मिल सकती है. यह बात दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट (Srrum Institute) ने कही है. सीरम इंस्टीट्यूट के कार्यकारी निदेशक डॉ सुरेश जाधव (Dr. Suresh Jadhav) ने कहा कि कई कंपनियां वैक्सीन बनाने पर तेजी से काम कर रही हैं. सीरम इंस्टीट्यूट देश में ऑक्सफोर्ड-अस्त्राजेनेता की कोरना वैक्सीन का ट्रायल (Trial) कर रहा है.

डॉ सुरेश जाधव ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कहा कि अगर रेग्युलेटर्स जल्दी अप्रूव (Approve) कर देते हैं, तो मार्च 2021 तक भारत को भी कोरोना की वैक्सीन (Corona Vaccine) मिल सकती है. उन्होंने कहा कि कई कंपनियां इस पर तेजी से काम कर रही हैं.उन्होंने  कहा कि भारत में कोरोना वैक्सीन पर तेजी से ट्रायल चल रहा है, देश में दो वैक्सीन निर्माता कंपनियां (Vaccine Manufacturers) फेज-3 का ट्रायल कर रही हैं, वहीं एक ट्रायल फेज-2 में है. और भी वैक्सीन निर्माता कंपनियां तेजी से काम कर रही हैं.

ये भी पढ़ें- कोरोना वैक्सीन Tracker: 2021 में टीका आने के बाद भी सामान्य नहीं होंगे हालात- सर्वे

साल 2021 की दूसरी तिमाही तक आ सकती है वैक्सीन-WHO

विश्व स्वास्थ्य संगठन की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने कहा कि किसी भी वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल के दौरान शुरुआत में उतार-चढ़ाव आते हैं. उन्होंने कोरोना वैक्सीन के अगले साल की दूसरी तिमाही तक बाजार में आने की भी उम्मीद जताई.

सौम्या श्रीनाथन ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि जनवरी 2021 तक हम वैक्सीन के रिजल्टस देख सकते हैं. उन्होंने साल 2021 की दूसरी तिमाही तक SARS-CoV-2 के खिलाफ वैक्सीन तैयार होने की उम्मीद जताई.

वहीं डॉक्टर जाधव ने इंडिया वैक्सीन एक्सेसिबिलिटी ई-समिट को संबोधित करते हुए कहा कि ‘हम हर साल 700 से 800 मिलियन वक्सीन की डोज बना सकते हैं’. उन्होंने यह भी कहा कि 55 प्रतिशत आबादी 50 साल से कम उम्र की है, लेकिन उपलब्धता के आधार पर वैक्सीन सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मियों को मिलनी चाहिए, फिर 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों, और बाद में बाकी आबादी तक वैक्सीन की खुराक पहुंचनी चाहिए.

‘लाइसेंस मिलने के बाद ही बाजार में आएगी कोरोना वैक्सीन’

उन्होंने कहा कि जहां तक ​​सीरम इंस्टीट्यूट का सवाल है, वह दिसंबर 2020 तक वैक्सीन की 60-70 मिलियन डोज तैयार कर लेगा, लेकिन लाइसेंस की मंजूरी के बाद साल 2021 में ही यह बाजार में उपलब्ध होगी.

ये भी पढ़ें- बिना मास्क के पब्लिक इवेंट में पहुंचे ब्रिटेन के क्वीन और प्रिंस, लोगों को नहीं पसंद आई ये लापरवाही

डॉ जाधव ने ये भी कहा कि वैक्सीन बनाने में आठ से 10 साल लगते हैं, लेकिन यह तीसरी बार है जब हम कम समय में वैक्सीन बनाई जा रही है. डब्ल्यूएचओ ने इस प्रक्रिया को तेज और आसान बनाने के लिए पहल की है

Related Posts