देश में सात लाख सरकारी पद खाली, जानिए किस विभाग में है सबसे ज्यादा वैकेंसी

श्रम और रोजगार मंत्री संतोष गंगवार ने संसद में बताया कि मार्च 2018 तक सरकारी विभाग और मंत्रालयों में करीब सात लाख पद खाली हैं.

नई दिल्ली. श्रम और रोजगार मंत्री संतोष गंगवार ने लोक सभा में बताया कि मार्च 2018 तक सरकारी विभाग और मंत्रालयों में करीब सात लाख पद खाली थे. इनमे से सबसे ज्यादा 2.6 लाख पद रेलवे में खाली थे. हालांकि, अभी तक मार्च 2019 को समाप्त होने वाले वित्तीय वर्ष के आंकड़े संसद के सामने पेश नहीं किए गए हैं. इसके लिए कोई कारण भी नहीं बताया गया है. गंगवार ने बताया कि रोजगार पैदा करने के साथ ही खाली पदों पर नियुक्ति सरकार की पहली प्राथमिकता है. वह लोकसभा में कांग्रेस सांसद दीपक बैज और भाजपा सांसद दर्शाना जर्दोश के सवालों का जवाब दे रहे थे.

बैज और जर्दोश ने सरकारी विभाग में खाली पदों की संख्या और उसको भरने के लिए उठाए जा रहे कदमों पर सरकार की प्रतिक्रिया मांगी थी. जवाब में, गंगवार ने कहा कि खाली पदों को भरना एक लगातार चलने वाली प्रक्रिया है. उन्होंने ये भी कहा कि ये राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों की जिम्मेदारी है कि उनके अधिकार क्षेत्र में आने वाली रिक्तियों पर भर्ती हो. 

व्यय विभाग के अनुसार,  1 मार्च 2018 तक सभी स्तरों पर सरकारी विभागों और मंत्रालयों में 6.84 लाख पद खाली थे. आंकड़ों से पता चला कि 38.03 लाख खाली पदों के मुकाबले केवल 31.19 लाख पदों पर नियुक्ति हुई. देश में सबसे ज्यादा सरकारी नौकरी देने वाले रेलवे में 15.08 लाख रिक्तियां थीं. हालांकि,  2.59 लाख पदों पर नियुक्ति नहीं हुई. रेलवे के बाद सबसे ज्यादा रिक्तियां रक्षा मंत्रालय में काम करने वाले असैनिक कर्मचारी के पदों पर थी. यहां 5.85 लाख रिक्तियों के मुकाबले सिर्फ 3.98 लाख पदों पर भर्तियां हुई हैं. इसके हिसाब से 1.87 लाख रिक्तियां अभी भी हैं.

गृह मंत्रालय, जिसके अधीन पैरामिलिटरी फोर्सेस और दिल्ली पुलिस की भर्तियां होती हैं, उसमे 72,365 रिक्तियां बची हैं. 10.21 भर्तियां होनी थी पर सिर्फ 9.48 लाख भर्तियां हुई.

ये भी पढ़ें: तो क्या गांधी परिवार के वफादार मोतीलाल वोरा होंगे कांग्रेस के अगले राष्ट्रीय अध्यक्ष?

ये भी पढ़ें: ‘तीनों मोदी चोर हैं’ वाले बयान पर कोर्ट ने भेजा था समन, पेशी पर नहीं आए राहुल गांधी