शाहीन बाग मामला: सुप्रीम कोर्ट ने कहा – बातचीत से हल निकालें, न सुलझे मामला तो अपना काम करे प्रशासन

शाहीन बाग धरने का मसला हल करने का जिम्मा सुप्रीम कोर्ट ने वरिष्‍ठ वकील संजय हेगड़े को सौंपा है और उन्हें मध्यस्थ नियुक्त किया है.
Supreme Court on Shaheen Bagh, शाहीन बाग मामला: सुप्रीम कोर्ट ने कहा – बातचीत से हल निकालें, न सुलझे मामला तो अपना काम करे प्रशासन

शाहीन बाग धरने को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस से बातचीत कर हल निकालने के लिए कहा है. कोर्ट ने कहा कि धरने के कारण लोगों को परेशानी नहीं होनी चाहिए. शहर की सड़क ऐसे बंद नहीं कर सकते.

साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर मामला नहीं सुलझता है तो प्रशासन अपने तरीके से काम कर सकती है.सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता के लिए वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े को नियुक्त किया है.

सुप्रीम कोर्ट में दी गईं कौन सी दलीलें…

  • वकील ने कहा कि सड़क बंद होने से परेशानी हो रही है और पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही.
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कुछ समुदाय के लोग धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. सवाल ये है कि वो कहां प्रदर्शन या धरना कर रहे हैं. हमारी चिंता लोगों कि परेशानी को लेकर है. एक शहर कि प्रमुख सड़क को इस तरह से बंद नहीं किया जा सकता.
  • शाहीन बाग में धरना प्रदर्शन कर रहे लोगों का पक्ष रखने को दो एनजीओ समेत तीन ने पक्षकार बनाने कि मांग कोर्ट से की.
  • कोर्ट ने कहा कि आप हमारा संदेश वहां तक पहुंचाएं. कोर्ट ने कहा कि लोकतंत्र लोगों कि अभिव्यक्ति से ही चलता है, लेकिन इसकी एक सीमा है. अगर सभी सड़क बंद करने लगे तो परेशानी खड़ी हो जाएगी. यातायात नहीं बंद होना चाहिए.
  • कोर्ट ने कहा कि सभी सार्वजनिक जगह पर धरना प्रदर्शन करेंगे तो क्या होगा. भले ही उनका आधार सही हो, हम ये नहीं कह रहे कि इसे रोका जाए. हमारा कहना है कि धरना प्रदर्शन ऐसी जगह करें जहां परेशानी लोगों को नहीं हो. आप हमारी बात शाहीन बाग के लोगों तक पहुंचाएं. उन्हें हमारी बात का सबब समझाएं.
  • सुप्रीम कोर्ट ने आगे ने कहा, हम सिर्फ ये कह रहे हैं कि सार्वजनिक जगह का इस्तेमाल नहीं किया जाए. हम इतने ही मसले पर गौर कर रहे हैं. उसे कुछ और नहीं समझा जाए. बच्चों, बुजुर्गों, बीमारों, काम पर जाने वालों को परेशानी नहीं हो.

सुप्रीम कोर्ट ने महिला वकील को शाहीन बाग के लोगों से बात करने को कहा जो दो एनजीओ समेत तीन लोगों कि ओर से आवेदन दाखिल करने के लिए पेश हुई थीं. सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में बातचीत कर मसला हल करने को कहा है. शाहीन बाग धरने का मसला हल करने का जिम्मा सुप्रीम कोर्ट ने वरिष्‍ठ वकील संजय हेगड़े को सौंपा है और उन्हें मध्यस्थ नियुक्त किया है.

  • कोर्ट के आदेश के बाद सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट इस मामले में जो उचित समझे करे. सरकार पर बेतुके आरोप लग रहे हैं.
  • कोर्ट ने कहा कि हम बातचीत के लिए भेज रहे हैं. अगर यह सफल नहीं होती तो प्रशासन अपना काम करें.
  • सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि सरकार और पुलिस कि तरफ से लगातार बातचीत के जरिए हल निकालने का प्रयास कर रहे है.
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रदर्शन का मूल अधिकार हरेक नागरिक को है. सरकार ने सार्वजनिक स्थान पर ऐसी चीजों से लोगों को परेशानी से बचाने के लिए इस संबंध में कोई कानून नहीं बनाया.

 

ये भी पढ़ें-  जम्‍मू-कश्‍मीर में बनेगी सेना की थियेटर कमान, CDS बिपिन रावत का बड़ा ऐलान

देसी ‘उसेन बोल्‍ट’ ने ठुकराया केंद्रीय मंत्री का ऑफर, समझाया कंबाला और ट्रैक रेस का फर्क

Related Posts