शत्रुघ्न सिन्हा ने पत्नी पूनम के लिए किया प्रचार, कहा- पार्टी परिवार से बड़ी नहीं

शत्रुघ्न सिन्हा ने भाजपा का दामन छोड़ दिया है और कांग्रेस के पाले में पहुंच गए हैं. कांग्रेस ने उनको पटना साहिब से ही उम्मीदवार बनाया है.

नई दिल्ली: शत्रुघ्न सिन्हा(Shatrughan Sinha) की पत्नी पूनम सिन्हा(Poonam Sinha) ने मंगलवार को समाजवादी पार्टी(Samajwadi Party) की सदस्यता ली. उन्होंने लखनऊ में सपा नेता डिंपल यादव(Dimple Yadav) की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ली. उत्तर प्रदेश की हाई-प्रोफाइल सीट लखनऊ से BJP उम्मीदवार राजनाथ सिंह(Rajnath Singh) को गठबंधन की तरफ से सपा प्रत्याशी पूनम सिन्हा(Poonam Sinha) टक्कर देंगी.

वहीं दूसरी तरफ आज शत्रुघ्न सिन्हा ने अपनी पत्नी के लिए लखनऊ में प्रचार किया. पूनम सिन्हा के लिए प्रचार करना इसलिए रोचक माना जा रहा है क्योंकि शत्रुघ्न स्वंय कांग्रेस के उम्मीदवार हैं और सपा प्रत्याशी अपनी पत्नी के लिए प्रचार कर रहे हैं.

पत्नी के लिए प्रचार करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मेरे लिए परिवार पहले है और पार्टी बाद में. गौरतलब है कि पटना साहिब से सांसद रहे शत्रुघ्न सिन्हा ने भाजपा का दामन छोड़ दिया है और कांग्रेस के पाले में पहुंच गए हैं. कांग्रेस ने उनको पटना साहिब से ही उम्मीदवार बनाया है. यूपी के महागठबंधन में कांग्रेस शामिल नहीं है. कांग्रेस ने लखनऊ सीट से आचार्य प्रमोद कृष्णम को प्रत्याशी बनाया है जबकि बीजेपी से राजनाथ सिंह चुनाव लड़ रहे हैं.

यह भी पढ़ें, पूनम सिन्हा ने लखनऊ और अखिलेश यादव ने आजमगढ़ से दाखिल किया पर्चा; देखें तस्वीरें

राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो लखनऊ में कायस्थ मतदाताओं की संख्या तीन से साढ़े तीन लाख के आसपास है. इसके अलावा सवा लाख के करीब सिंधी वोटर हैं. इसी के मद्देनजर सपा की तरफ से शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी को लखनऊ से लड़ाने की कोशिश की है. मालूम हो कि लखनऊ में पांचवें चरण के दौरान 6 मई को मतदान होना है. नामांकन की आखिरी तारीख 18 अप्रैल है. 2014 में राजनाथ सिंह ने लखनऊ सीट पर भारी मतों से जीत हासिल की थी. पिछले दो दसकों से लखनऊ लोकसभा को भाजपा का मजबूत गढ़ माना जाता है.

वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस के उम्मीदवार आचार्य प्रमोद कृष्णम ने यूपी के महागठबंधन पर भी निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि 37-38 सीट पर लड़कर ये सिर्फ भाजपा या कांग्रेस में आएंगे. साथ ही उन्होंने कहा कि मुझे किसी शत्रुघ्न सिन्हा की जरूरत नहीं है.