बड़ा खुलासा : दुनिया को लगे जिंदा है शीना बोरा, इसके लिए इंद्राणी ने Google को दिए थे पैसे

इंद्राणी मुखर्जी ने ये सब शीना के मर्डर के दो महीने बाद किया ताकि वो उसके अकाउंट को एक्सेस कर मेल्स भेज सके और दुनिया को लगे कि शीना अभी भी जिंदा है.
Sheena Bora Murder Case, बड़ा खुलासा : दुनिया को लगे जिंदा है शीना बोरा, इसके लिए इंद्राणी ने Google को दिए थे पैसे

शीना बोरा मर्डर केस की मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी की एक और करतूत सीबीआई के सामने आई है. इस केस के एक विटनेस ने कोर्ट को बताया कि इंद्राणी ने शीना के लॉक्ड गूगल एकाउंट का इस्तेमाल करने के लिए गूगल को पैसे पे किए थे.

इंद्राणी ने गूगल को 2 डॉलर यानी लगभग 110 रुपये शीना के अकाउंट को अनलॉक करने के लिए दिए. इंद्राणी ने ये सब शीना के मर्डर के दो महीने बाद किया ताकि वो उसके अकाउंट को एक्सेस कर मेल्स भेज सके और दुनिया को लगे कि शीना अभी भी जिंदा है.

पीटर मुखर्जी को जमानत

बॉम्बे हाईकोर्ट ने शीना बोरा हत्याकांड मामले में गिरफ्तार पीटर मुखर्जी को 6 फरवरी को जमानत दे दी. इसके साथ ही अदालत ने कहा कि पहली नजर में पीटर मुखर्जी के खिलाफ अपराध में शामिल होने के सबूत नहीं है.

हालांकि, अदालत ने केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) के अनुरोध पर अपने आदेश पर छह हफ्ते की रोक लगा दी ताकि जांच एजेंसी फैसले के खिलाफ अपील दायर कर सके. पीटर मुखर्जी को शीना बोरा की हत्या करने के आरोप में 19 नवंबर 2015 को गिरफ्तार किया गया था. इस मामले में उनकी पत्नी इंद्राणी मुखर्जी मुख्य आरोपी हैं.

हत्या करने की साजिश रची

सीबीआई के मुताबिक पीटर मुखर्जी ने इंद्राणी मुखर्जी, इंद्राणी के पूर्व पति संजीव खन्ना के साथ मिलकर शीना की हत्या करने की साजिश रची. शीना की 24 अप्रैल 2012 को कथित रूप से हत्या कर दी गई थी और इसका खुलासा 2015 में एक अन्य मामले में इंद्राणी के ड्राइवर श्यामवर राय की गिरफ्तारी से हुआ जिसने शव को ठिकाने लगाने में मदद की थी. बाद में राय सरकारी गवाह बन गया.

ये भी पढ़ें-

भजनपुरा हत्याकांड: भाई ही निकला कातिल, साढ़े तीन घंटे खेला खूनी खेल फिर बाहर जाकर पी शराब

निर्भया मामला: दोषियों के खिलाफ फ्रेश डेथ वारंट जारी करने के मामले पर फिर टली सुनवाई

Related Posts