LIVE: पंचतत्व में विलीन शीला दीक्षित, राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

शुक्रवार सुबह सीने में जकड़न की शिकायत के बाद फोर्टिस-एस्कॉर्ट्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

  • TV9.com
  • Publish Date - 7:06 am, Sun, 21 July 19

पूर्व मुख्यमंत्री और दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित का अंतिम संस्कार कुछ ही देर निगम बोध घाट पर किया जाएगा. इस मौके पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मौजूद रहेंगे. सोनिया गांधी और गृहमंत्री अमित शाह भी अंतिम संस्कार में मौजूद रहेंगे.

इससे पहले उनके पार्थिव शरीर को कांग्रेस हेडक्वार्टर लाया गया जहां उनके प्रशंसकों और पार्टी के नेताओं ने अंतिम दर्शन किए.

आपको बता दें कि दिल्ली की पूर्व सीएम और प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष शीला दीक्षित का शनिवार को निधन हो गया था. वह 81 साल की थीं.

पारिवारिक सूत्रों के मुताबिक दीक्षित पिछले कुछ समय से अस्वस्थ चल रही थीं और उन्हें शुक्रवार की सुबह सीने में जकड़न की शिकायत के बाद फोर्टिस-एस्कॉर्ट्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां दोपहर बाद तीन बजकर 55 मिनट पर उन्होंने अंतिम सांस ली.

LIVE UPDATES

  • नम आंखों से दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का अंतिम संस्कार निगमबोध घाट पर किया गया.
  • सीएनजी शवदाह गृह में होगा अंतिम संस्कार.
  • राजकीय सम्मान के साथ शीला दीक्षित को अंतिम विदाई दी जाएगी.

#मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शीला दीक्षित को दी श्रद्धांजलि

# गृहमंत्री अमित शाह ने दी अंतिम श्रद्धांजलि

# शीला दीक्षित के अंतिम दर्शन के बाद सोनिया गांधी ने कहा, ‘वो मेरे लिए हमेशा मददगार रहीं. वो मेरी दोस्त और बड़ी बहन जैसी थीं. यह कांग्रेस के लिए बहुत बड़ा नुकसान है, मैं उन्हें हमेशा याद रखूंगी.’

# कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने कांग्रेस मुख्यालय पहुंचकर शीला दीक्षित को अंतिम नमन किया.

# कांग्रेस मुख्यालय में शीला दीक्षित का पार्थिव शरीर रखा गया है.

# शीला दीक्षित का पार्थिव शरीर कांग्रेस मुख्यालय के लिए रवाना हो गया है.

# वरिष्ठ बीजेपी नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने दिवंगत कांग्रेस नेता शीला दीक्षित के आवास पर पहुंचकर उनके अंतिम दर्शन किए और श्रद्धांजलि अर्पित की.

# पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शीला दीक्षित के अंतिम दर्शन किए.

# जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने शीला दीक्षित को अंतिम श्रद्धांजलि दी.

दिल्ली कांग्रेस के सामने नया नेता तलाशने की चुनौती

दिल्ली में विधानसभा चुनाव होने में कुछ ही महीने शेष हैं और ऐसे में पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के अचानक निधन से दिल्ली कांग्रेस के सामने एक ऐसे नेता की तलाश करने की चुनौती उत्पन्न हो गई है, जो उनकी जिम्मेदारी संभाल सके.

शीला दीक्षित के निधन के बाद अब दिल्ली कांग्रेस इकाई के सामने दो चुनौतियां हैं…नया नेता तलाशना और पार्टी में एकजुटता कायम करना. नए नेता को दिल्ली इकाई को एकजुट करने की चुनौती से भी जूझना पड़ सकता है.

एक नेता ने कहा, ‘नेताओं की मौजूदा जमात में कोई भी दीक्षित की लोकप्रियता से मेल नहीं खाता है. तीन कार्यकारी अध्यक्षों हारुन युसूफ, देवेंद्र यादव और राकेश लिलोठिया क्रमश: वरिष्ठ नेताओं जेपी अग्रवाल, एके वालिया और सुभाष चोपड़ा से कनिष्ठ है.’ नेता ने कहा, ‘दीक्षित के अचानक निधन से दिल्ली कांग्रेस बुरी तरह से प्रभावित हुई है.’

अजय माकन ने छोड़ दिया था दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष पद
वर्ष 2013 के बाद से हर प्रमुख चुनाव में तीसरे स्थान पर रह रही कांग्रेस को 2019 के लोकसभा चुनाव में दूसरे स्थान पर रहकर आम आदमी पार्टी (आप) कुछ हद तक किनारे करने में सफल रही थी और उसे कुछ उम्मीद दिखाई दी थी. कांग्रेस पांच सीटों पर दूसरे स्थान पर रही थी.

दीक्षित अगले वर्ष जनवरी-फरवरी में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी कर रही थीं. अब पार्टी को चुनाव से पहले संगठन का नेतृत्व करने के लिए एक नए नेता की तलाश करनी होगी. दिल्ली प्रदेश कांग्रेस समिति के पूर्व प्रमुख अजय माकन ने स्वास्थ्य कारणों से इस्तीफा दे दिया था.