’23 को मिलेंगे विपक्षी एकता के सबूत’, शिवसेना ने चंद्रबाबू नायडू की कोशिशों का मजाक बनाया

'सामना' के संपादकीय में लिखा है कि विपक्षी दलों की एकता का असली सबूत 23 मई) के बाद दिखेगा.

मुंबई: शिवसेना ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री व तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के अध्यक्ष एन. चंद्रबाबू नायडू पर तंज कसा है. अपने मुखपत्र ‘सामना’ में लिखे संपादकीय में शिवसेना ने सरकार बनाने के लिए नायडू की कोशिशों को ‘एक मनोरंजक खबर’ कहा है. साथ ही शिवसेना ने विश्वास जताया है कि एक बार फिर एनडीए की सरकार बनेगी. शिवसेना ने लिखा है कि नायडू विपक्ष को एकजुट करने में जुटे हैं, मगर उनकी पार्टी खुद हारने के कगार पर है.

पत्र में कहा गया है कि नायडू विभिन्न दलों को एकत्रित करने की कोशिश कर श्‍मशान की राख एक करने के प्रयास कर रहे हैं. शिवसेना ने विपक्षी दलों की एकता पर संदेह जाहिर करते हुए कहा कि ‘विपक्षी दलों की एकता का असली सबूत 23 तारीख (23 मई) के बाद दिखाई देगा.’

विपक्ष में पीएम पद के 5 दावेदार

शिवसेना ने ‘सामना’ में लिखा है कि ‘विपक्ष की बस यही कोशिश है कि मोदी सत्ता में वापस न आये, लेकिन विपक्ष बैसाखियों के सहारे सत्ता हासिल करने की कोशिश में जुटा है. विपक्ष के गठबंधन में पीएम पद के लिए पांच उम्मीदवार खुद को दावेदार मान रहे हैं.’

पार्टी ने उम्‍मीद जताई कि एनडीए आम चुनाव 2019 में 300 से ज्‍यादा सीटें जीतेगा. पत्र में लिखा गया है, “अमित शाह ने पहले ही विश्वास जताया था कि 300 के पार सीटें जीतेंगे और हमें इसपर भरोसा है.”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की केदारनाथ यात्रा पर भी ‘सामना’ में टिप्‍पणी की गई है. पत्र में लिखा गया है, “मोदीजी की केदारनाथ में तपस्या से विपक्ष डर गया है. यह (आम चुनाव) विपक्ष के सेक्युलरवाद और मोदीजी के हिंदुत्ववाद की लड़ाई है.”

नायडू 19 मई को संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिले थे. साथ ही उन्होंने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार से दूसरी बार मिलकर केंद्र में अगली सरकार की संभावनाओं पर चर्चा की थी. चंद्रबाबू ने केंद्र में वैकल्पिक सरकार की संभावनाओं पर मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव सीताराम येचुरी से भी विचार-विमर्श किया था.

ये भी पढ़ें

‘कांग्रेस खत्‍म हो जानी चाहिए’, बोले योगेंद्र यादव, Exit Polls पर शशि थरूर का तर्क- डर के मारे वोटर्स सच नहीं बताते

एग्जिट पोल के बाद NDA में हलचल शुरू, 21 मई को होगी बैठक